'अग्निपथ' के खिलाफ जंतर मंतर पर कांग्रेस का सत्याग्रह, प्रियंका के साथ अग्निपथ विरोधी तख्तियां लेकर बैठे नेता

'अग्निपथ' योजना को वापस लेने के लिए देश के कई राज्यों में बड़े पैमाने पर प्रदर्शन हो रहे हैं। इस बीच कांग्रेस ने 'अग्निपथ' योजना के खिलाफ अपना विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया है। कांग्रेस अग्निपथ योजना के खिलाफ दिल्ली के जंतर मंतर पर सत्याग्रह आंदोलन कर रही है।

अग्निपथ के खिलाफ जंतर मंतर पर कांग्रेस का सत्याग्रह, प्रियंका के साथ अग्निपथ विरोधी तख्तियां लेकर बैठे नेता
x

नई दिल्ली: केंद्र सरकार द्वारा सेना भर्ती के लिए लाई गई 'अग्निपथ' योजना का विरोध और भी तेज होता जा रहा है। इस योजना को वापस लेने के लिए देश के कई राज्यों में बड़े पैमाने पर प्रदर्शन हो रहे हैं। इस बीच कांग्रेस ने 'अग्निपथ' योजना के खिलाफ अपना विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया है। कांग्रेस अग्निपथ योजना के खिलाफ दिल्ली के जंतर मंतर पर सत्याग्रह आंदोलन कर रही है। 


'अग्निपथ' योजना को वापस लेने की मांग को लेकर कांग्रेस की इस इस सत्याग्रह में पार्टी के कई बड़े नेता आंदोलन में भाग ले रहे हैं। प्रियंका गांधी के साथ कांग्रेस के नेता अग्निपथ विरोधी तख्तियां लेकर बैठे हैं। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने छात्रों के शांतिपूर्ण ढंग से आंदोलन का समर्थन किया है।






और पढ़िए – जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा बलों ने एनकाउंटर में 4 आतंकियों को किया ढेर, आपरेशन जारी





इस 'सत्याग्रह' में  प्रियंका गांधी, अधीर रंजन चौधरी, केसी वेणुगोपाल, हरीश रावत, अजय माकन समेत कई बड़े नेता शामिल हुए हैं। बताया जा रहा है कि पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी भी इस प्रदर्शन में शामिल हो सकते हैं। प्रदर्शन को देखते हुए अर्ध सैनिक बलों की तैनाती की गई है।





इस बीच राहुल गांधी ने एकबार फिर अग्निपथ स्कीम को लेकर केंद्र सरकार पर हमला किया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा है कि बार-बार नौकरी की झूठी उम्मीद दे कर, प्रधानमंत्री ने देश के युवाओं को बेरोज़गारी के ‘अग्निपथ' पर चलने के लिए मजबूर किया है। 8 सालों में, 16 करोड़ नौकरियां देनी थीं मगर युवाओं को मिला सिर्फ़ पकोड़े तलने का ज्ञान। देश की इस हालत के ज़िम्मेदार केवल प्रधानमंत्री हैं।







और पढ़िए – अग्निपथ योजना पर रक्षा मंत्रालय सख्त, कहा- किसी भी सूरत में वापिस नहीं होगी स्कीम, विरोध करने वालों के लिए सेना में कोई जगह नहीं





आपको बता दें कि शनिवार को सोनिया गांधी ने एक चिट्‌ठी लिखकर युवाओं से अपील की थी कि वे विरोध करने के लिए अहिंसक तरीका अपनाएं। उन्होंने लिखा था कि यह योजना पूरी तरह से दिशाहीन है और युवाओं के साथ छलावा हो रहा है। उन्होंने कहा था कि कांग्रेस इस योजना को वापस करवाने के लिए अहिंसक तरीके से आंदोलन करेगी। 


गौरतलब है कि अग्निवीर योजना को सेना की अग्निपथ सेवा के तहत लाया गया है। इसमें 17 से 21 साल के युवा शामिल हो सकते हैं। इस साल इस आयु सीमा को 23 साल रखा गया है। चार साल की नौकरी के बाद उन्हें करीब 12 लाख रुपए दिए जाएंगे। इसके अलावा केंद्रीय बलों और अन्य सरकारी प्रतिष्ठानों में लिए जाने की बात भी सरकार ने कही है। इसके बाद भी बिहार समेत देश के तमाम राज्यों में इस योजना के विरोध में हिंसा और आगजनी की घटनाएं हो रही हैं।








और पढ़िए – देश से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें






Click Here - News 24 APP अभी download करें

Next Story