Agneepath protest: एक्शन में सरकार, 35 फेक न्यूज फैलाने वाले WhatsApp ग्रुप बैन, 10 गिरफ्तार

गृह मंत्रालय ने कहा कि रविवार को अग्निपथ योजना और अग्निवीरों पर फर्जी खबरें फैलाने के लिए 35 व्हाट्सएप समूहों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। अफवाह फैलाने और विरोध प्रदर्शन आयोजित करने के आरोप में कम से कम दस लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

Agneepath protest: एक्शन में सरकार, 35 फेक न्यूज फैलाने वाले  WhatsApp ग्रुप बैन, 10 गिरफ्तार
x

नई दिल्ली: गृह मंत्रालय ने कहा कि रविवार को अग्निपथ योजना और अग्निवीरों पर फर्जी खबरें फैलाने के लिए 35 व्हाट्सएप समूहों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। वहीं, अफवाह फैलाने और विरोध प्रदर्शन आयोजित करने के आरोप में कम से कम दस लोगों को गिरफ्तार किया गया है।


गृह मंत्रालय ने कहा कि केंद्र ने व्हाट्सएप फैक्ट-चेकिंग के लिए 8799711259 नंबर भी जारी किया है। बिहार जैसे राज्यों में विरोध प्रदर्शनों को जुटाने के लिए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म विशेषकर व्हाट्सएप का इस्तेमाल करने की खबरों के बीच यह कार्रवाई हुई है, जहां ट्रेन की बोगियों को आग लगाने की घटनाएं देखी गई।


बिहार में 17 जून तक 12 जिलों में इंटरनेट बंद

17 जून को, बिहार सरकार ने रविवार तक 12 जिलों में इंटरनेट सेवाओं को निलंबित करते हुए कहा था कि जनता को भड़काने और जान-माल को नुकसान पहुंचाने के इरादे से अफवाहें फैलाने के लिए आपत्तिजनक सामग्री प्रसारित करने के लिए इंटरनेट का इस्तेमाल किया जा रहा है। पटना में जिला प्रशासन ने यह भी कहा कि गिरफ्तार प्रदर्शनकारियों के मोबाइल फोन से एकत्र की गई जानकारी कोचिंग सेंटरों की भूमिका की ओर इशारा करती है।





और पढ़िए – अग्निपथ योजना के खिलाफ छात्रों का भारत बंद, उपद्रवियों पर विशेष नजर, अलर्ट पर आरपीएफ और जीआरपी





तेलंगाना में गिरफ्तारी

तेलंगाना पुलिस ने आंध्र प्रदेश में पलनाडु जिले के नरसरावपेट शहर में एक कोचिंग संस्थान के मालिक को कथित तौर पर अग्निपथ योजना के विरोध में युवाओं को उकसाने के आरोप में गिरफ्तार किया है। हिरासत में लिए गए कोचिंग संस्थान के मालिक अवुला सुब्बा राव पर हकीमपेट आर्मी सोल्जर्स नाम से एक व्हाट्सएप ग्रुप बनाने का आरोप है जिसमें सेना के सैकड़ों उम्मीदवार शामिल थे। इस समूह पर, उसने कथित तौर पर सभी सदस्यों को संदेश भेजकर विरोध प्रदर्शन में भाग लेने के लिए कहा था।


वापस नहीं होगी अग्निपथ स्कीम

विरोध के बीच, केंद्र ने स्पष्ट कर दिया है कि चार साल के कार्यकाल के लिए सशस्त्र बलों में भर्ती के लिए अग्निपथ योजना को वापस नहीं लिया जाएगा। तोड़फोड़ और आगजनी के मुद्दे पर रक्षा मंत्रालय ने कहा कि हिंसक विरोध प्रदर्शन करने वालों को भर्ती नहीं किया जाएगा। उम्मीदवारों को यह कहते हुए एक लिखित शपथ देनी होगी कि उन्होंने विरोध प्रदर्शन में हिस्सा नहीं लिया जिसका प्रतिज्ञा का सत्यापन पुलिस करेगी।








और पढ़िए – देश से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें






Click Here - News 24 APP अभी download करें

Next Story