'अग्निपथ' के विरोध में 12 ट्रेनें जलाई गईं, स्टेशनों में तोड़फोड़ की गई, जानिए 10 बड़ी अपडेट

नई सैन्य भर्ती नीति अग्निपथ को लेकर गुस्साई भीड़ ने ट्रेनों में आग लगा दी और कई राज्यों में पुलिस के साथ झड़प में कम से कम एक व्यक्ति की मौत हो गई व कई अन्य घायल हो गए। सरकार ने इस योजना का बचाव करते हुए इसे "परिवर्तनकारी" कहा है।

अग्निपथ के विरोध में 12 ट्रेनें जलाई गईं, स्टेशनों में तोड़फोड़ की गई, जानिए 10 बड़ी अपडेट
x

नई दिल्ली: नई सैन्य भर्ती नीति अग्निपथ को लेकर गुस्साई भीड़ ने ट्रेनों में आग लगा दी और कई राज्यों में पुलिस के साथ झड़प में कम से कम एक व्यक्ति की मौत हो गई व कई अन्य घायल हो गए। सरकार ने इस योजना का बचाव करते हुए इसे "परिवर्तनकारी" कहा है।


टॉप 10 नवीनतम घटनाक्रम:
1: तेलंगाना के सिकंदराबाद में वारंगल के एक 19 वर्षीय व्यक्ति की मौत हो गई और 15 से अधिक घायल हो गए, क्योंकि हिंसक विरोध दक्षिणी राज्य में फैल गया। नई योजना को लेकर बिहार, पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, हरियाणा और मध्य प्रदेश जैसे कई राज्यों में हिंसक आंदोलन हुए हैं।






और पढ़िए – केंद्र ने सीएपीएफ, असम राइफल्स भर्ती में अग्निवीरों के लिए 10% आरक्षण की घोषणा की





2: बिहार में पश्चिम चंपारण जिले के बेतिया में उपमुख्यमंत्री रेणु देवी के घर पर हमला किया गया। उन्होंने कहा, "इस तरह की हिंसा समाज के लिए बहुत खतरनाक है। प्रदर्शनकारियों को याद रखना चाहिए कि यह समाज के लिए एक नुकसान है।"


3: बिहार के 12 जिलों में इंटरनेट बंद कर दिया गया है। सरकार ने कहा कि सोशल नेटवर्किंग साइट्स का दुरुपयोग इन 12 जिलों में शांति के हितों के लिए हानिकारक होने की संभावना है।


4: उत्तर प्रदेश में, भीड़ ने आज सुबह बलिया में एक रेलवे स्टेशन में प्रवेश किया और एक ट्रेन के डिब्बे में आग लगा दी। पुलिस द्वारा उन्हें तितर-बितर करने के लिए बल प्रयोग करने से पहले उपद्रवियों ने रेलवे स्टेशन की संपत्ति को भी नुकसान पहुंचाया। वाराणसी, फिरोजाबाद और अमेठी में भी विरोध प्रदर्शन हुए, जिससे सरकारी बसों और सार्वजनिक संपत्ति के अन्य प्रतीकों को नुकसान पहुंचा। अलीगढ़ में एक स्थानीय भाजपा नेता की कार में आग लगा दी गई।


5: रेलवे के अनुसार, बुधवार को विरोध प्रदर्शन शुरू होने के बाद से कम से कम 12 ट्रेनों में आग लगा दी गई है और 300 से अधिक अन्य प्रभावित हुए हैं - 214 रद्द कर दिए गए, 11 डायवर्ट किए गए और 90 अपने गंतव्य तक नहीं पहुंचे।


6: रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा, "मैं युवाओं से अपील करता हूं कि वे हिंसक विरोध प्रदर्शन में शामिल न हों और रेलवे की संपत्ति को नुकसान न पहुंचाएं। रेलवे देश की संपत्ति है।"


7: सरकार ने मंगलवार को अग्निपथ का अनावरण किया, सेना, नौसेना और वायु सेना में सैनिकों की भर्ती के लिए इसे "परिवर्तनकारी" योजना कहा।


8: प्रदर्शनकारी परिवर्तनों से नाखुश हैं, विशेष रूप से सेवा की लंबाई, जल्दी जारी किए गए लोगों के लिए कोई पेंशन प्रावधान नहीं है, और 17.5 से 21 साल की आयु प्रतिबंध जो अब उनमें से कई को अयोग्य बनाता है।






और पढ़िए – राहुल गांधी की चेतावनी, कहा- 'माफीवीर' पीएम को वापस लेनी होगी अग्निपथ योजना






9: विरोध के बाद अग्निपथ भर्ती के लिए आयु सीमा अब 21 से बढ़ाकर 23 कर दी गई है। सरकार ने इस योजना का 10 सूत्री बचाव भी किया है और रंगरूटों को आश्वासन दिया है कि वे सेना में अपने चार साल पूरे करने के बाद खुद को मुश्किल में नहीं पाएंगे।


10: नई भर्ती योजना को लेकर विपक्ष ने भी सरकार पर अपना हमला तेज कर दिया है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से आग्रह किया है कि वे अग्निपथ पर चलकर उनके धैर्य की 'अग्निपरीक्षा' न लें। इस बीच, समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने इस कदम को देश के भविष्य के लिए "लापरवाह" और संभावित रूप से "घातक" बताया।






और पढ़िए – देश से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें






Click Here - News 24 APP अभी download करें

Next Story