नमक फैक्ट्री में हुआ दर्दनाक हादसा ,दिवार के निचे दबने से 12 की मौत

मोरबी के हड़वद जीआईडीसी में नमक फैक्ट्री में हुए एक हादसे में १२ की मौत हो गई है , पीएम और सीएम ने घटना पर जताया दुख मुख्यमंत्री ने हादसे में मारे गए श्रमिकों के प्रति हार्दिक संवेदना व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री राहत कोष से 4 लाख रुपये की सहायता की घोषणा की है ,कलेक्टर समेत आला अधिकारी मौके पर पहुंच।

नमक फैक्ट्री में हुआ दर्दनाक हादसा ,दिवार के निचे दबने से 12 की मौत
x

ठाकुर भूपेंद्र सिंह - अहमदाबाद : गुजरात के मोरबी जिले के हङवद जीआईडीसी में हुए एक दर्दनाक हादसे में 12  की मौत हो गई है और ये आकड़ा अभी और भी बढ़ने की आशंका है , शुरूआती जानकारी के मुताबिक हङवद जीआईडीसी में सागर साल्ट नाम के नमक कारखाने में दीवार गिरने से वहा काम कर रहे 12 मजदूरों की दिवार के मलबे में दबने से मौत हो गई और कई घायल हो गए है। घटना के बाद प्रशासन ने सागर साल्ट फक्ट्री में जेसीबी की मदद से दीवार के मलबे में फंसे मजदूरों को निकालने का काम शुरू कर दिया था मलबे में से अब तक 12 शव निकाले जा चुके है और कुछ लोगो के फसे होने की आशंका जताई जा रही है , हादसे में घायल लोगो को नजदीक के अस्पताल में भर्ती करवाया गया है , मरने वालों की संख्या में बढ़ोत्तरी भी हो सकती है। हादसे में मारे गए लोगों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने श्रद्धांजलि दी है.


शुरूआती जानकारी के अनुसार हङवद जीआईडीसी स्थित सागर साल्ट नामक नमक कारखाने में रोज़ की तरह नमक की बोरी भरने का काम चल रहा था तभी सुबह तड़के फैक्ट्री की दीवार अचानक गिरने से करीब 20 मजदूर मलबे में दब गए , जिसके बाद तुरंत जेसीबी से मलबे में दबे मजदूरों को निकालने का काम शुरू किया जिसमे अब तक 12 मजदूरों की मौत की जानकारी सामने आई है। नमक की बोरियों और दीवार के मलबे में फंसे कई मजदूरों को निकालने का काम लगभग पूरा हो चूका है। बताया जा रहा है की छुट्टी का समय होने के कारण इस घटना में मासूम बच्चे भी अपने परिवार के साथ थे जो इस घटना में घायल हुए है 


प्रशासन की ओर से मलबे को हटाने का काम लगभग पूरा हो चूका है। इस दर्दनाक हादसे की जानकारी मिलते ही राज्य के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने हादसे में मारे गए कार्यकर्ताओं के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की है और मृतकों की आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की है.


हादसे में मरने वाले हर मजदूर के परिजनों को मुख्यमंत्री राहत कोष से चार-चार लाख रुपये की सहायता देने की घोषणा की गई है. मुख्यमंत्री को जैसे ही इस घटना की जानकारी हुई उन्होंने मोरबी के जिला कलेक्टर को तत्काल राहत एवं बचाव कार्य के निर्देश दिये। वही प्रधानमंत्री मोदी ने भी इस घटना पर गहरी सवेदना प्रकट की है ,स्थानीय पुलिस और प्रशासन घटना की गंभीरता को देखते हुए जांच पड़ताल शुरू कर दी है , जांच इस दिशा में भी की जा रही है की दिवार कितनी जर्जर थी और उसकी मरम्मत क्यों नहीं करवाई गई , इस बारे में फैक्ट्री मालिक से पूछताछ की जा रही है। 

Next Story