10 साल की अंतरराष्ट्रीय पर्यावरण कार्यकर्ता ने दिखाए ताजमहल की खूबसूरती पर लगे दाग, अधिकारी बोले-रोज सफाई होती है...

दस साल की अंतरराष्ट्रीय पर्यावरण कार्यकर्ता लिसीप्रिया कंगुजम ने ताजमहल के पिछले हिस्से में खड़े होकर हाथ में एक तख्ती लेकर फोटो खिंचाया और उसे ट्वीट किया तो अधिकारी नींद से जागे।

10 साल की अंतरराष्ट्रीय पर्यावरण कार्यकर्ता ने दिखाए ताजमहल की खूबसूरती पर लगे दाग, अधिकारी बोले-रोज सफाई होती है...
x

आगराः ताजमहल सिर्फ उत्तर प्रदेश के आगरा ही नहीं बल्कि देश का चेहरा है। आए दिन यहां गंदगी की खबरें आती हैं। शिकायतें होती है, लेकिन जिम्मेदार अधिकारियों के लिए यह कोई बड़ी बात नहीं है। दस साल की अंतरराष्ट्रीय पर्यावरण कार्यकर्ता लिसीप्रिया कं गुजम ने ताजमहल के पिछले हिस्से में खड़े होकर हाथ में एक तख्ती लेकर फोटो खिंचाया और उसे ट्वीट किया तो अधिकारी नींद से जागे। आगरा कमिश्नर अमित गुप्ता ने संबंधित विभागों से जवाब तलब किया है। लिसीप्रिया के हाथ में लगी तख्ती में लिखा था कि ताजमहल की खूबसूरती के पीछे प्लास्टिक कचरा बिखरा पड़ा है। 

 

असम के मनीपुर गांव में जन्मी लिसीप्रिया छह वर्ष की उम्र से पर्यावरण संरक्षण को लेकर दुनियाभर में मुहिम चला रही हैं। उन्होंने वर्ष 2019 में संसद भवन के सामने पर्यावरण परिवर्तन कानून और शिक्षा नीति में पर्यावरण को शामिल करने की मांग को लेकर विरोध-प्रदर्शन किया था। इसके बाद 2019 में ही उन्हें स्पेन के मेड्रिड शहर में आयोजित यूनाइटेड नेशन्स क्लाइमेट कॉन्फ्रेंस (सीओपी-25) में सबसे युवा पर्यावरविद् के रूप में ख्याति मिली। लिसीप्रिया अब तक 32 देशों की चार हजार से अधिक संस्थाओं में पर्यावरण जागरुकता के लिए भ्रमण कर चुकी हैं। 






और पढ़िए – 27 जून को राष्ट्रपति जा सकते हैं वृंदावन, तैयारियों पर मांगी गई रिपोर्ट






लिसीप्रिया ने 21 जून को अपने ट्विटर हैंडल पर ताजमहल के पीछे में यमुना किनारे खड़े हुए अपना एक फोटो ट्वीट किया है। उनके हाथ में एक तख्ती है। इस पर लिखा है 'बिहाइंड द ब्यूटी ऑफ ताजमहल इज प्लास्टिक पॉल्यूशन' यानी ताजमहल के खूबसूरती के पीछे प्लास्टिक प्रदूषण है। उनके इस फोटो को दो हजार से ज्यादा लोग रीट्वीट कर चुके हैं। जबकि सात हजार से ज्यादा लोगों ने इसे लाइक किया है।


वहीं फोटो वायरल होने के बाद आगरा मंडल के कमिश्नर अमित गुप्ता ने संबंधित अधिकारियों से जवाब तलब किया। इसके बाद बुधवार को नगर निगम ने अपने अधिकृत हैंडल से ट्वीट का जवाब दिया। कहा कि जब यमुना नदी में जलस्तर घट जाता है तो प्लास्टिक कचरा इकठ्ठा हो जाता है।




और पढ़िए – Punjab: गुलाबी सुंडी के कारण कपास की फसल के होने वाले नुकसान पर CM मान ने लिया एक्शन, कृषि विभाग को दिए सख्त निर्देश





कमिश्नर अमित गुप्ता ने कहा कि हमारी टीम नियमित सफाई कराती है। इसके साथ ही बुधवार को मौके के फोटो भी निगम ने ट्वीट किए हैं। जानकारों के अनुसार यह फोटो 27 मई का बताया जा रहा है। लिसीप्रिया इन दिनों लखनऊ में क्लाइमेंट चेंज लॉ की मांग को लेकर विरोध-प्रदर्शन कर रही हैं।









और पढ़िए – देश से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें






Click Here - News 24 APP अभी download करें

Next Story