भविष्य में जंग के लिए ऐसे तैयार हो रहा है भारत, दुश्मनों को कर देगा नेस्तनाबूद

नई दिल्ली (20 मई): सरकार ने रक्षा बलों के लिए आर्टिफिशल इंटेलिजेंस (एआई) के इस्तेमाल पर काम करना शुरू कर दिया है। परियोजना का मकसद सुरक्षा बलों को मानव रहित टैंक, पोत, हवाई यानों और रोबॉटिक हथियारों से लैस करते हुए ऑपरेशन संबंधी तैयारियों को महत्वपूर्ण तरीके से बढ़ाना है। 

रक्षा सचिव (उत्पादन) अजय कुमार ने कहा कि सरकार ने रक्षा बलों के तीनों अंगों में आर्टिफिशल इंटेलिजेंस की शुरुआत करने का फैसला किया है क्योंकि यह भविष्य में युद्ध की जरूरत को देखते हुए एक 'अहम क्षेत्र' होगा। उन्होंने कहा कि टाटा सन्स के प्रमुख एन चंद्रशेखरन की अध्यक्षता वाला एक उच्चस्तरीय कार्यबल परियोजना की बारीकियों एवं संरचना को अंतिम रूप दे रहा है।  

आपको बता दें कि अपनी सेना में आर्टिफिशल इंटेलिजेंस के व्यापक इस्तेमाल की खातिर चीन तेजी से निवेश बढ़ा रहा है, ऐसे में यह परियोजना भारत की थल सेना, वायु सेना और नौसेना को भविष्य की जंग के लिहाज से तैयार करने की व्यापक नीतिगत पहल का हिस्सा है।