कुलभूषण जाधव को फांसी हुई तो पाकिस्तान को भुगतने होंगे 'गंभीर' नतीजे

डॉ. संदीप कोहली,

नई दिल्ली (11 अप्रैल): कुलभूषण जाधव के मामले में सड़क से संसद तक संग्राम जारी है। जब से खबर आई है कि पाकिस्तान में जाधव को मौत की सजा सुनाई गई है। तब से क्या जनता, क्या नेता सब एक आवाज में पाकिस्तान के इस फैसले का विरोध कर रहे हैं। जहां एक ओर देश के कौने-कौने में जाधव की रिहाई की मांग को लेकर पाकिस्तान के खिलाफ नारे लगाए जा रहे हैं पाकिस्तान के झंडे जलाए जा रहे हैं तो वहीं दूसरी तरफ संसद में आज पक्ष-विपक्ष दोनों ने हर कीमत पर कुलभूषण को बचाने का बात कही। राज्यसभा में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि कुलभूषण पूरे देश का बेटा है उन्हें हर कीमत पर बचाएंगे। वहीं लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि मोदी सरकार को जाधव को बचाना चाहिए। इस पर गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि जाधव को बचाने के हरसंभव प्रयास किए जाएंगे।


सरकार ने क्या कहा संसद में-

    * सुषमा स्वराज ने बयान में कहा कुलभूषण ने कुछ भी गलत नहीं किया है।

    * पाकिस्तान के सजा के ऐलान को भारत इसे सुनियोजित हत्या ही मानेगा।

    * सुषमा स्वराज ने साफ कहा कि सरकार आउट ऑफ द वे जाकर मदद करेगी।

    * साथ ही चेतावनी देते हुए कहा इसका असर द्विपक्षिय संबंधों पर पड़ेगा।

    * अगर जाधव को फांसी होती है तो पाकिस्तान को गंभीर नतीजे भुगतने होंगे।

    * गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा जाधव के पास वैध भारतीय वीजा मिला था।

    * जाधव बचाने के लिए सरकार जो बन पड़ेगा, वो करेगी, उसके साथ अन्याय नहीं होगा।


जाधव को सोमवार को सुनाई थी मौत की सजा-

    * पाकिस्तान की एक सैन्य अदालत ने जाधव को मौत की सजा सुनाई थी।

    * जाधव को पाकिस्तानी आर्मी ऐक्ट(PAA) के तहत जासूसी की सजा सुनाई गई।

    * पाकिस्तान में जाधव पर RAW के लिए काम करने का आरोप लगाया था।

    * जाधव पर पाकिस्तान में विध्वंसकारी गतिविधयों की साजिश का भी आरोप लगा।

    * फील्ड जनरल कोर्ट मार्शल (FGCM) द्वारा जाधव को मौत की सजा दी गई।

    * पाकिस्तान की इंटर सर्विसेज पब्लिक रिलेशंस(ISPR ने इसकी पुष्टि की।


क्या है पूरा मामला-

    * कुलभूषण जाधव भारतीय नौसेना के रिटायर्ड अफसर हैं जो ईरान में बिजनेस हैं।

    * ईरान में वे काफी वक्त से कानूनी तौर पर कार्गो के कारोबार में लगे रहे हैं।

    * पाकिस्तान ने कुलभूषण को जासूसी का आरोप में 3 मार्च 2016 गिरफ्तार किया।

    * बलूचिस्‍तान के मश्‍केल से कुलभूषण को जासूसी का आरोप में गिरफ्तार किया।

    * गिरफ्तार के बाद जाधव को भारतीय राजदूत से तक नहीं मिलने दिया गया।

    * पाकिस्तान ने कस्टडी में जाधव पर बेहिसाब टॉर्चर किया, उससे झूठे बयान दिलवाए गए।

    * पाकिस्तान ने जाधव का 6 मिनट का एक वीडियो भी जारी किया जिसमें 105 कट थे।

    * वीडियो देखकर साफ कहा जा सकता था कि उसे कैसे तोड़-मरोड़ का पेश किया गया है।


पाकिस्तान ने बोला था झूठ, खुद ही किया था खुलासा-

    * जासूसी की बात को लेकर पाकिस्तान सरकार में एक राय नहीं थी।

    * जाधव की गिरफ्तारी के बाद पाक सरकार के दो विरोधाभासी बयान आए थे।

    * पहला बयान नवाज शरीफ के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज का था।

    * ये बयान सरताज अजीज द्वारा 7 दिसंबर 2016 को पाक संसद में दिया गया था।

    * जिसमें अजीज ने कहा था कि पाक एजेंसियों के तैयार डोजियर में कुछ भी नहीं है।

    * जाधव ने सिर्फ बयान दिया है उसके खिलाफ हमारे पास कोई पुख्ता सुबूत नहीं हैं।

    * अजीज के बयान के थोड़ी देर बाद पाक विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता का बयान आया।

    * पाक विदेश मंत्रालय ने कहा अजीज का बयान बेबुनियाद और तथ्यों से परे है।

    * पाक विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कुलभूषण जाधव के खिलाफ पुख्ता सबूत हैं।

    * अप्रैल 2016 में कुलभूषण यादव पर आतंकवादी धाराओं के तरह केस दर्ज किए गए।


पाक मीडिया को डर भारत चुप नहीं बैठेगा-

    * द नेशन- पाकिस्तान के बड़े अंग्रेजी अखबार ‘द नेशन’ ने अपने पहले पन्ने पर डेथ टू स्पाई स्पाइक्स टेंशन यानि जासूस की सजाए मौत बढ़ा रही है तनाव शीषर्क से प्रमुख खबर छापी है। अखबार ने रक्षा विशेषज्ञ डॉ हसन अस्करी के हवाले से लिखा है कि जाधव को फांसी देने का फैसला दोनों देशों के बीच तनाव में और इजाफा करेगा।

    * द एक्सप्रेस ट्रिब्यून- पाकिस्तान के एक अन्य अंग्रेजी अखबार 'द एक्सप्रेस ट्रिब्यून’ ने पहले पन्ने पर सेल्फ कन्फेस्ड इंडियन स्पाई अवार्डेड डेथ सेंटेंस यानि स्वघोषित भारतीय जासूस को मौत की सजा शीषर्क से खबर छापी है और इस फैसले को अभूतपूर्व बताया है। साथ ही दोनों पड़ोसी देशों के बीच तत्काल कटु राजनीतिक विवाद पनपने की आशंका जतायी गयी है।

    * डॉन- पाकिस्तान के अखबार ‘डॉन’ ने इस फैसले को विरल कदम बताया है। अखबार ने लिखा है कि यह फैसला ऐसे वक्त में सामने आया है जब पाकिस्तान और भारत के बीच पहले से तनाव जारी है। जो आने वाले समय में और बढ़ सकता है।


पाकिस्तान की जेलों में बंद हैं कई भारतीय-

    * 2011 में एक रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान में बंद भारतीय कैदियों की तादाद लगभग 558 थी।

    * इनमें से 232 नागरिक कैदी हैं 74 भारतीय सैनिक हैं जिनमें से 54 सैनिक 1971 के युद्ध कैदी हैं।

    * हालांकि पाकिस्तान इस बात का खंडन करता रहा है कि उसकी जेलों में 1971 के कोई युद्धबंदी बंद हैं।

    * पाकिस्तान की ओर से जारी रिपोर्ट के मुताबिक पाक जेलों में 72 आम भारतीय नागरिक बंद हैं।

    * पाकिस्तान की जेलों में लगातार भारतीय कैदियों पर हमले होते रहे हैं, किरपाल सिंह ताजा मामला है।

    * 2013 से अब तक पाकिस्तान की जेलों में 13 भारतीय नागरिकों की मौत हो चुकी है।

    * इसके अलावा विदेश मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक पाकिस्तान की जेलों में भारतीय मछुआरे बंद हैं।

    * पकड़े गए/जेलों में बंद मछुआरों की संख्या- 2014 में 435, 2015 में 370 और 2016 में 316

    * रिहा किए गए मछुआरों की संख्या- 2014 में 185, 2015 में 335 और 2016 में 410