बच्चों पर गोली चलाना बंद करो कायर पाकिस्तान!

नई दिल्ली (20 जुलाई): जम्मू-कश्मीर में नियंत्रण रेखा (LoC) पर सीजफायर उल्लंघन को लेकर भारत और पाकिस्तान के बीच गुरुवार को डीजीएमओ स्तर की बातचीत हुई। भारत ने एलओसी के पास नागरिकों को टारगेट किए जाने का मुद्दा उठाया। भारत के डीजीएमओ ने उन्हें बताया कि एलओसी पर लगातार सीजफायर का उल्लंघन किया जा रहा है।

भारत और पाकिस्तान ने एलओसी पर एक-दूसरे के नागरिकों को निशाना बनाए जाने का आरोप लगाया, लेकिन पाकिस्तानी फायरिंग में भारतीय क्षेत्र में स्कूली बच्चों के फंसने की घटना के बाद भारत ने पाकिस्तान को सख्त लहजों में कहा है कि किसी देश की सेना यह नहीं करती। 

पाकिस्तान की तरफ से लाइन ऑफ कंट्रोल पर सीजफायर तोड़े जाने और नागरिकों को निशाना बनाए जाने की घटनाओं के बाद भारत के डीजीएमओ (डायरेक्टर जनरल ऑफ मिलिट्री ऑपरेशंस) लेफ्टिनेंट जनरल एके भट्ट ने गुरुवार को दिन में 3:30 बजे पाकिस्तान के डीजीएमओ से बातचीत की। 

पाक के डीजीएमओ को उनके देश के सैनिकों के उन ऐक्शन के बारे में बताया गया, जिसके तहत उन गांवों को निशाना बनाया गया, जहां आम नागरिक रहते हैं। स्कूली बच्चों पर भी फायरिंग की गई। इन बच्चों को वहां से हटाना पड़ा। पाक के डीजीएमओ से कहा गया कि इस तरह का बर्ताव किसी देश की सेना नहीं करती है। 

भारतीय सेना प्रफेशनल ताकत होने के नाते इस बात का पूरा ख्याल रखती है कि नागरिकों को निशाना न बनाया जाए। पाकिस्तानी सेना से भी इसी की उम्मीद की जाती है। यह भी बताया गया कि सीजफायर तोड़े जाने में उच्चतर क्षमता के हथियारों का इस्तेमाल किया जा रहा है। स्नाइपर फायरिंग और घुसपैठ की कोशिशें भी सामने आई हैं। डीजीएमओ से कहा गया कि वे अपने सैनिकों को काबू में रखें और किसी नापाक गतिविधि से उन्हें दूर रखें।