भारत-पाक मुकाबले को लेकर ICC ने किया बड़ा खुलासा

नई दिल्ली(2 जून): अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) ने माना है कि वह प्रमुख टूर्नामेंट्‍स में ड्रॉ को आमतौर पर इस तरह बनाता है कि भारत और पाकिस्तान को एक ही ग्रुप में रखा जाए। बता दें अगले साल  इंग्लैंड में होने वाले आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी के ड्रॉ में भारत और पाकिस्तान को एक ही ग्रुप 'बी' में रखा गया है।

भारत 4 जून को एजबेस्टन में अपने अभियान की शुरुआत पाकिस्तान के खिलाफ करेगा। 'द टेलीग्राफ' की रिपोर्ट के अनुसार आईसीसी के मुख्य कार्यकारी डेव रिचर्डसन ने माना है कि वे भारत और पाकिस्तान को एक ही ग्रुप में रखने की कोशिश करते हैं।

उन्होंने कहा कि आईसीसी के नजरिए से यह बहुत महत्वपूर्ण होता है। भारत-पाक मैच के चाहने वाले दुनियाभर में है और इसकी वजह से टूर्नामेंट को बहुत प्रचार-प्रसार मिलता है। यह लगातार पांचवां टूर्नामेंट है, जहां भारत और पाकिस्तान को एक ही ग्रुप में रखा गया है। इन दोनों देशों के बीच मैच में टेलीविजन पर भारी तादाद में लोग देखते हैं और कई बार तो यह संख्या एक अरब तक पहुंच जाती है।

पिछले काफी समय से यह संदेह व्यक्त किया जा रहा था कि आईसीसी बड़े टूर्नामेंट्‍स के ड्रॉ में छेड़छाड़ करती है ताकि भारत और पाकिस्तान को एक ही ग्रुप में रखा जाए। इसके जरिए फैंस और प्रसारणकर्ता को परंपरागत विरोधी टीमों के मैच देखने को मिले। लेकिन यह पहला मौका है जब आईसीसी ने इस बात को स्वीकारा है।

रिचर्डसन ने कहा कि इस तरह की छेड़छाड़ से टूर्नामेंट की अखंडता पर कोई असर नहीं पड़ता है। उन्होंने कहा कि हम हमेशा ग्रुप बनाते समय रैंकिंग का ध्यान रखते हैं। ग्रुप इस तरह बनाए जाते है कि वे ज्यादा असंतुलित नजर नहीं आए। इसलिए यदि ग्रुपों का संतुलन बना रहता है तो टूर्नामेंट पर कोई असर नहीं पड़ता है।