सात समंदर पार फिर से होगी हिंदुस्तान की सरकार...

नई दिल्ली (1 जून): आज से चैंपियंस ट्रॉफी का आगाज हो गया है। भारत और पाकिस्तान के बीच 4 जून को बर्मिंघम के मैदान पर महामैच खेला जाएगा। मैच से पहले टीम इंडिया के 15 खिलाड़ियों ने जीत की कसम खाई है। प्रैक्टिस मैच में सबसे बड़ा प्रहार करने के बाद टीम इंडिया ने एक साथ सात टीमों को सबसे खतरनाक वॉर्निंग दी है।

चैंपियंस ट्रॉफी में रवाना होने से पहले हर किसी की नजर टीम इंडिया की ओपनिंग पर टिकी थी, क्योंकि शिखर धवन और रोहित शर्मा टीम में वापसी की है। लेकिन पहले दोनों प्रैक्टिस मैच में धवन ने जिस तरह का प्रदर्शन किया है उससे विराट कोहली ने राहत की सांस ली है।

ओपनिंग के साथ-साथ हर किसी की निगाहें कप्तान कोहली के फॉर्म पर भी थी। कोहली ने न्यूजीलैंड के खिलाफ पहले प्रैक्टिस मैच में अर्धशतकीय पारी खेल कर दिखा दिया है कि फॉर्म उनके लिए कोई मायने नहीं रखता है। वैसे भी विराट कोहली ये साफ कर चुके हैं कि वो हर मैच में अपना 120 फीसदी देना चाहते हैं।

मीडिल ऑर्डर में विराट के साथ-साथ दिनेश कार्तिक, एमएस धोनी और आजिंक्य रहाणे का प्रदर्शन हर हिंदुस्तानी को शुकुन दे रहा है। साथ ही हार्दिक पांड्या जैसे ऑलराउंडर ने चैंपियंस ट्रॉफी में हर किसी की उम्मीद को बढ़ा दी है।

अगर स्पिन डिपाटमेंट की बात करें तो आर अश्विन के साथ रवींद्र जडेजा ने भी प्रैक्टिस मैच से अपने इरादे जाहिर कर दिए हैं। वैसे भी चार साल पहले इंग्लैंड की सरजमीं पर जब टीम इंडिया ने चैंपियंस ट्रॉफी पर कब्जा किया था तो इसमें स्पिन का सबसे अहम रोल था। रवींद्र जडेजा ने सबसे ज्यादा 5 मैच से 15 विकेट अपने नाम किए थे।

अश्विन-जडेजा के साथ साथ टीम इंडिया की पेस अटैक जीत की गारंटी दे रहा है। मोहम्मद शमी, भुवनेश्वर कुमार, उमेश यादव और जसप्रीत बुमराह की चौकड़ी किसी भी टीम को चित करने का दम रखते हैं। जिसका एक नूमना पहले न्यूजीलैंड के खिलाफ और फिर दूसरे प्रैक्टिस मैच में बांग्लादेश के खिलाफ दिखाई दिया। अब टीम इंडिया के रडार पर पाकिस्तान की टीम है, जहां विराट की अगुवाई में भारतीय टीम सबसे बेरहम क्रिकेट खेलने के लिए तैयार है।