मैदान पर फिर से आएगा धोनी-युवराज सिंह का तूफान...

नई दिल्ली (10 जनवरी): वनडे टीम में तीन साल बाद वापसी के बाद युवराज सिंह ने अपने दिल की बात जाहिर की है। युवराज कह रहे हैं कि वो धोनी के साथ एक बार फिर फियरलेश क्रिकेट खेलेंगे। यानि कि मैदान पर एक बार फिर धोनी और युवराज का फिनिशर वाला अंदाज दिखाई देगा, जिसकी गवाही धोनी और युवराज का एक वीडियो भी दे रहा है।


प्रैक्टिस मैच से पहले नेट्स पर एक तरफ युवराज और दूसरी तरफ धोनी एक साथ प्रैक्टिस कर रहे हैं। युवराज साल 2000 में टीम इंडिया से जुड़े थे और धोनी साल 2004 के बाद टीम इंडिया में आए थे। साल 2005 से साल 2011 के बीच धोनी और युवराज वर्ल्ड क्रिकेट के सबसे बड़े फिनिशर माने जाते थे। रनों का पीछा करते हुए अगर क्रीज पर धोनी के साथ युवराज होते थे तो फिर टीम इंडिया की जीत पक्की मानी जाती थी।


अगर आंकड़ों में देखे तो धोनी ने रनों का पीछा करते हुए 88 वनडे की 62 पारियों में 38 बार नाबाद लौटते हुए 101 की औसत से रन बनाए और टीम इंडिया को इन 88 मैचों में जीत मिली, जबकि धोनी का करियर औसत 50 का है। वही दूसरी तरफ युवराज सिंह रनों का पीछा करते हुए 91 मैच की 76 पारियों में 26 बार नाबाद लौटे और युवराज का औसत 54.56 का रहा जबकि युवराज का करियर औसत 36.37 का रहा।


ये वही दौर था जब युवराज नंबर 4 और धोनी नंबर 5 पर बल्लेबाजी करते हुए टीम इंडिया की जीत तय करते थे। हारी बाजी भी ये दोनों पलट देते थे। भला क्रीज पर वर्ल्ड कप 2011 के क्वाटर फाइनल को कौन भूला सकता है। क्वाटर फाइनल के बाद बारी जब फाइनल की आई तो फिर युवराज के पार्टनर धोनी ने अपनी इस पारी से दुनिया ही जीत ली।