INDvsAUS: चौथे दिन का खेल खत्म, भारत पर मंडराया हार का खतरा


न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (17 दिसंबर): भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच पर्थ में खेले जा रहे दूसरे टेस्ट में भारत पर हार का खतरा मंडरा गया है। चौथे दिन का खेल समाप्त होने पर भारत अपनी दूसरी पारी में 5 विकेट पर 112 रन बनाकर संघर्ष कर कर रहा है। हनुमा विहारी 24 और ऋषभ पंत 9 रन बनाकर पिच पर जमे हुए हैं।


सोमवार को मैच के आखिरी दिन भारत को जीतने और सीरीज में 2-0 की अजेय बढ़त  बनाने के लिए 175 रन बनाने हैं, जबकि पांच विकेट उसके हाथ में है। दूसरी पारी में नॉथन लॉयन और हेडलवुड ने दो-दो विकेट चटकाए, वहीं, ऑस्ट्रेलिया की दूसरी पारी 243 रन पर उम्मीदों से काफी पहले खत्म हो गई। इसके लिए मोहम्मद शमी जिम्मेदार रहे, जिन्होंने मेजबान बल्लेबाजों पर कहर ढाते हुए 6 विकेट चटकाए। कुल मिलाकर भारत गहरे संकट में है और विशेषज्ञ बल्लेबाजों की आखिरी जोड़ी मैदान पर है और यहां से कोई बड़ा चमत्कार ही भारत को जीत से नवाज सकता है।


भारत की दूसरी पारी में  शुरुआत बेहद खराब रही और 13 रन के स्कोर पर दो विकेट गिर गए। लोकेश राहुल (0) और चेतेश्वर पुजारा (4) गलत शॉट खेलकर अपना विकेट गंवा बैठे।इसके बाद मुरली विजय (20) और कप्तान विराट कोहली (17) ने 35 रन की साझेदारी कर पारी को संभालने की कोशिश की। लेकिन कोहली के 48 के कुल स्कोर पर आउट होने से भारतीय लड़खड़ा गई। भारत को चौथा झटका विजय के रूप में लगा। वह 55 के स्कोर पर अपना विकेट गंवा बैठे। मेहमान टीम का पांचवां विकेट अजिंक्य रहाणे के तौर पर 98 के स्कोर पर गिरा। उन्होंने 47 गेंदों में 2 चौकों और 1 छक्के की मदद से 30 रन बनाए। ऑस्ट्रेलिया के लिए दूसरी पारी में जोश हेजलवुड और नाथन ल्योन ने दो-दो विकेट झटके। वहीं, मिलेश स्टार्क को एक विकेट मिला।




इससे पहले चौथे दिन दूसरी पारी में 4 विकेट पर 132 रन से आगे खेलने उतरी ऑस्ट्रेलियाई टीम 243 रन पर ढेर हो गई। मेजबान टीम ने पहली पारी में मिली 43 रन की बढ़त के आधार पर 286 रन का सम्मानजनक स्कोर खड़ा किया। ऑस्ट्रेलिया ने पहली पारी में 326 रन बनाए थे जबकि भारतीय टीम अपनी पहली पारी में 283 रन पर ऑल आउट हो गई थी। ऑस्ट्रेलिया के लिए दूसरी पारी में उस्मान ख्वाजा (72) ने सबसे ज्यादा रन बनाए। वहीं, टिम पेन (37) एरोन फिंच (25), मार्कस हैरिस (20), ट्रेविस हेड (19), मिशेल स्टार्क (14) पीटर हैंड्सकोंब (13), शॉन मार्श ने (5), पैट कमिंस ने (1), रनों का योगदान दिया। जोश हेजलवुड (17) रन बनाकर नाबाद लौटे।




उस्मान और टिम को छोड़कर कोई भी बल्लेबाज ज्यादा देर नहीं टिक सका। ऑस्ट्रेलिया का पहले सत्र में पलड़ा भारी रहा। लेकिन टीम दूसरे सत्र खत्म होने से पहले लड़खड़ा गई और 53 रन जोड़कर 6 विकेट गंवा दिए। भारत की तरफ से मोहम्मद शमी ने सबसे अच्छी गेंदबाजी की। उन्होंने 56 रन देकर 6 विकेट चटकाए। शमी के करियर की यह सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी है। उन्होंने चौथी बार अपने करियर में पांच या उससे ज्यादा विकेट अपना नाम किए। शमी के अलावा जसप्रीत बुमराह ने 39 रन पर तीन विकेट और ईशांत शर्मा ने 45 रन पर 1 विकेट हासिल किया। दोनों ही टीमों के लिए सोमवार का दिन बेहद अहम है।




खराब शुरुआत के बाद मुरली विजय से टीम को मुरली विजय से एक बड़ी पारी की उम्मीद थी। लेकि वह आशानुरूप प्रदर्शन नहीं कर पाए और सस्ते में अपना विकेट गंवा बैठे। उन्होंने 67 गेंदों की अपनी पारी में 3 चौकों की मदद से 20 रन बनाए। विजय को 22 ओवर की पांचवीं गेंद पर नाथन ल्योन ने अपना दूसरा शिकार बनाया। वह ल्योन की गेंद पर गल्ड शॉट खेलकर बोल्ड हो गए। ल्योन की गेंद ऑफ साइड पर पड़ने के बाद विजय के बल्ले का अंदरूनी किनारा लेकर ले स्टंप से टकरा गई। विजय पहली पारी में भी ज्यादा देर क्रीज पर नहीं टिक पाए  थे और 12 गेंदें खेलकर शून्य पर आउट हो गए। 






जल्द पवेलियन लौटे विराट कोहली



भारत को तीसरा झटका कप्तान विराट कोहली के रूप में लगा। पहली पारी के शतकवीर कोहली जल्द पवेलियन लौट गए। चेतेश्वर पुजारा के आउट होने के बाद बल्लेबाजी के लिए आए भारतीय कप्तान केवल 17 रन ही बना सके। 40 गेंदों की अपनी पारी में उन्होंने 2 चौके जड़े। कोहली को 20वें ओवर की पहली गेंद पर नाथन ल्योन ने पवेलियन की राह दिखाई। वह ल्योन की गेंद को रोकना चाहते थे लेकिन गेंद बल्ले का बाहरी किनारा लेकर दूसरी स्लिप में खड़े उस्मान ख्वाजा के हाथों में चली गई। उनका विकेट 48 के स्कोर पर गिरा।  कोहली ने पहली पारी में भारत के निराशानजक आगाज के बाद दमदार शतकीय पारी (123) खेली थी। कोहली का ऑस्ट्रेलियाई सरजमीं पर यह छठा टेस्ट शतक था।