सिंधु जल समझौते पर रोया पाकिस्तान, भारत-यूएस पर लगाया ये बड़ा आरोप

नई दिल्ली (7अगस्त): विश्व बैंक से सिंधु जल समझौते पर हार के बाद पाकिस्तान बौखला गया है। अब उसने सिंधु जल समझौते को लेकर भारत और अमेरिका पर  अंतरराष्ट्रीय साजिश रचने का आरोप लगाया है। पाकिस्तानी मीडिया ने पाकिस्तान सरकार के नए विदेश मंत्री ख्वाजा आसिफ के हवाले से यह दावा किया है। 

पाकिस्तानी मीडिया के मुताबिक ख्वाजा आसिफ ने कहा कि भारत पाकिस्तान के खिलाफ अफगानिस्तान की साजिशों का समर्थन कर रहा है। पाक के नए विदेश मंत्री ने भारत पर पाकिस्तान के शांति के प्रयासों का भी जवाब नहीं देने की बात कही है। उन्होंने कहा कि भारत केवल इस्लामाबाद पर दोषारोपण करता चला आ रहा है। 

विदेश मंत्री बनने के बाद अपनी पहली ही प्रेस कॉन्फ्रेंस में ख्वाजा आसिफ ने भारत को धमकाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। रिपोर्ट के मुताबिक आसिफ ने कहा है कि पड़ोसी देशों के साथ शांति और अच्छे संबंधों की पाकिस्तान की इच्छा उसकी कमजोरी नहीं समझी जानी चाहिए। हालांकि सिंधु जल समझौते की धाराओं के संबंध में आसिफ ने यह नहीं बताया कि अमेरिका और भारत किस तरह की अंतरराष्ट्रीय साजिश में शामिल हैं। 

आसिफ ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने समझौते की धाराओं के संबंध में पाकिस्तान को अंधेरे में रखा। आसिफ नाम तो अमेरिका का ले रहे हैं पर संभवतः वह वर्ल्ड बैंक का उल्लेख कर रहे थे जिसने पिछले दिनों झेलम और चिनाब नदियों पर भारत के 2 बांधों के निर्माण की अनुमति दी थी। सिंधु जल समझौते में वर्ल्ड बैंक दोनों देशों के बीच गारंटर की भूमिका अदा करता है।

विश्व बैंक ने कहा था कि सिंधु जल संधि की धाराओं के अनुसार, भारत को कुछ प्रतिबंधों के साथ इन नदियों की सहायक नदियों में पनबिजली ऊर्जा सुविधाओं का निर्माण करने की अनुमति है। पाकिस्तान इन नदियों पर भारत की किशनगंगा और रातले पनबिजली विद्युत संयंत्रों के निर्माण का विरोध कर रहा है। 

आसिफ ने भारत के उन आरोपों का कोई जवाब नहीं दिया जिसमें चीन की मदद से पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में सिंधु नदी पर 6 डैम बनाने की बात कही गई थी। भारत के विदेश राज्य मंत्री वीके सिंह ने पिछले हफ्ते राज्यसभा में एक लिखित जवाब में यह बात कही थी। सरकार ने इस संबंध में इस्लामाबाद और पेइचिंग, दोनों को ही डीमॉर्श (कूटनीतिक विरोध) जारी करते हुए कहा है कि यह भारत की संप्रभुता और राष्ट्रीय अखंडता का उल्लंघन है। 

पाकिस्तान के विदेश मंत्री आसिफ ने कहा कि भारत द्वारा पाकिस्तान नदियों का पानी रोकने के ज्वलंत मुद्दे को विश्व बैंक के सामने ले जा रहे हैं। आसिफ ने दावा किया कि करीब डेढ़ साल पहले ही किशनगंगा डैम बनाने का मुद्दा भारत-पाकिस्तान ने लगभग सुलझा लिया था।