महिला नेताओं के मामले में भारत दुनिया से आगे

नई दिल्ली (31 जुलाई): राजनीति में महिलाओं की अहमियत के मामले में भारत दुनिया के दूसरे देशों के मुकाबले एक सकारात्मक रेकॉर्ड रखता है। अमेरिका के एक रिसर्च सेंटर ने अपने शोध के माध्यम से इस तथ्य को रेखांकित किया है। 

- रिसर्च के मुताबिक, महिलाओं दे द्वारा देशों के नेतृत्व के इतिहास पर गौर करें, तो भारत विश्व के देशों की सूची में सबसे ऊपर आता है।  - भारत के पक्ष में एक और तथ्य यह है कि भारत उन पांच देशों में भी शामिल है, जहां पर एक महिला ने 15 सालों से अधिक समय तक शासन किया। - विश्व के ज्यादातर देशों में महिलाओं के हाथ में देश के शीर्ष राजनीतिक पदों की कमान नहीं रही है।  - विश्व के लगभग 79 देशों के राजनीतिक समीकरण में आज तक एक भी महिला को जगह नहीं मिली है।  - यहां तक कि विश्व के सबसे पुराने लोकतंत्रों में से एक यूएस में भी अगर हिलरी क्लिंटन राष्ट्रपति पद का चुनाव जीत जाती हैं, तो वह पहली महिला राष्ट्रपति होंगी। - इसके साथ अमेरिका संबंधित सूची में सबसे नीचे होगा। - वर्ल्ड इकॉनमिक फोरम के मुताबिक, 2014 तक विश्व के 142 में से 63 देशों में महिला नेतृत्व रहा है (केंद्र या राज्य की सरकारों के प्रमुख के रूप में)।  - गौरतलब है कि इनमें से भी ज्यादातर देशों में महिला नेता के हाथ में 4 सालों से भी कम समय तक सत्ता रही है। - भारत के संदर्भ में इस संबंध में इंदिरा गांधी और प्रतिभा पाटिल का नाम सबसे ऊपर आता है।  - इंदिरा गांधी ने देश में दो भागों में 16 सालों तक प्रधानमंत्री पद की कमान संभाली। पहले भाग में 1966 से लेकर 1977 तक और फिर दूसरे भाग में 1980 से लेकर 1984 इंदिरा ने भारत के प्रधानमंत्री पद का दायित्व संभाला। - इसके बाद नाम आता है प्रतिभा पाटिल का, जिन्होंने 2007 से लेकर 2012 तक भारत का राष्ट्रपति होने का गौरव हासिल किया। - भारत की राजनीति में कुछ अन्य महिला नेता, जो लंबे समय से अपना वर्चस्व बनाए हुए हैं। - इनमें मायावती, जयललिता, ममता बनर्जी और शीला दीक्षित प्रमुख नाम हैं।