6 परमाणु पनडुब्बियां बनाने की परियोजना पर काम शुरू, चीन को मिलेगा मुंहतोड़ जवाब

ग्वादर में चीनी युद्धपोतों का दिखना चिंता का विषय: नौसेना चीफ

नई दिल्ली (2 दिसंबर): इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में चीन की बढ़ती आक्रामक गतिविधियों के मद्देनजर भारत ने नौसैनिक बेड़े को अत्याधुनिक बनाने तथा परमाणु शक्ति संपन्न करने के लिए छह और परमाणु पनडुब्बी बनाने पर काम शुरू कर दिया है। नौसेना प्रमुख एडमिरल सुनील लांबा ने शुक्रवार को यहां वार्षिक संवाददाता सम्मेलन में इस महत्वाकांक्षी परियोजना के शुरू होने की पुष्टि की। साथ ही संकेत दिए कि नौसेना, भारत, अमेरिका, आस्ट्रेलिया और जापान के बीच प्रस्तावित चतुर्भुज गठबंधन में बड़ी भूमिका निभाने को तैयार है।

नौसेना दिवस की पूर्व संध्या पर एडमिरल लांबा ने कई पनडुब्बियों, युद्धपोतों और हथियार प्रणालियों को हासिल करने सहित नौसेना के समक्ष खड़े कई चुनौतीपूर्ण मुद्दों का जिक्र किया। उन्होंने कहा, नौसेना क्षेत्र में किसी भी पारंपरिक और गैर पारंपरिक चुनौतियों का सामना करने के लिए तैयार है।

परियोजना को लेकर पूछे गए सवाल पर उन्होंने कहा, 'परियोजना शुरू की गई है और मैं इसे उस पर छोड़ता हूं। यह एक गोपनीय परियोजना है। प्रक्रिया शुरू हो गई है। मैं इस पर और अधिक टिप्पणी नहीं करूंगा।'