भारत को मिली वासेनार में एंट्री, परेशान हुआ चीन

नई दिल्ली (9 दिसंबर): एनएसजी में चीन लगातार भारत के रास्ते में बाधा बना हुआ है, लेकिन इस बीच भारत को एक बड़ी कामयाबी हासिल हुई है। जिससे चीन और पाकिस्तान काफी परेशान हो गए हैं। भारत ने वासेनार अरेंजमेंट में 42वें सदस्य के तौर पर प्रवेश किया है।

क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा और निर्यात नियंत्रण व्यवस्था देखने वाली संस्था वासेनार अरेंजमेंट में शामिल होना भारत के लिए बड़ी उपलब्धि है। 48 सदस्यों वाले एनएसजी के लिए भी भारत की दावेदारी इससे मजबूत होगी। इसके सदस्य देशों के बीच हथियारों के हस्तांतरण में पारदर्शिता को बढ़ावा दिया जाता है। इसके साथ ही भारत ऑस्ट्रेलियाई ग्रुप में शामिल होने के लिए भी अपनी कोशिशें तेज कर दी हैं। एनएसजी में भारत की सदस्यता के विरोध में चीन अपने अड़ियल रवैये पर अडिग है।

विदेश मंत्रालय की तरफ से जारी किए गए बयान में कहा गया, 'वासेनार अरेंजमेंट की सदस्यता मिलने के बाद भारत की कोशिश भारतीय हथियार और स्पेस कार्यक्रमों के लिए उच्च स्तरीय तकनीक के सुगम आदान-प्रदान की रहेगी। सदस्य देशों के साथ निर्यात नियंत्रण नीति के तहत काम करना जिनमें निर्माण कार्य और चुनिंदा लाइसेंस छूट आदि शामिल हैं।'

देश के कुछ अति आशावादी समूहों को ऐसी उम्मीद है कि नई दिल्ली एमटीसीआर और वासेनार में चीन को सदस्यता दिलाने का लाभ उठा सकता है। चीन ने भी दोनों संगठनों में सदस्यता के लिए आवेदन किया है। चीन के शर्तों के उल्लंघन के इतिहास को देखते हुए उसकी सदस्यता अभी तक रुकी हुई है। आवेदन के लिए जरूरी शर्तों के आधार पर भी चीन का पलड़ा थोड़ा कमजोर जरूर है। एमटीसीआर और वासेनार में भारत की सदस्यता का समर्थन 35 और 41 सदस्यों ने किया। इनमें से ज्यादातर देश एनएसजी के भी मेंबर हैं। नॉन-एनपीटी पर भारत का स्टैंड इन दोनों समूहों की सदस्यता में किसी तरह का बाधा नहीं बना।