चीन के खिलाफ चक्रव्यूह: भारत की अरुणाचल में छठी सीमांत हवाई पट्टी सक्रिय

नई दिल्ली (30 दिसंबर): भारतीय वायुसेना ने चीन से किसी भी संभावित खतरे से निपटने के लिए अरुणाचल प्रदेश के तुरिग क्षेत्र में छठी सीमांत हवाई पट्टी खोली है। अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने इस हवाई पट्टी का औपचारिक रूप से उद्घाटन किया। ऐसी सात हवाई पट्टियां विकसित करने की 720 करोड़ रुपए की परियोजना का हिस्सा है, जिनका अभी इस्तेमाल नहीं हो रहा था।

 सेना चीन द्वारा भारत के साथ लगी 1080 किलोमीटर लंबी सीमा पर बड़े पैमाने पर निर्माण और विकास कार्य किए जाने के मद्देनजर सीमा क्षेत्र में बुनियादी सुविधाओं को मजबूत करने पर ध्यान दे रही है। सीमा क्षेत्रों में हवाई पट्टी बनाने की परियोजना के तहत अब तक मेचुका, विजयनगर, पस्सीघाट, जीरो और आलो में हवाई पट्टियां बनायी गयी हैं।

लद्दाख में भी हवाई पट्टियों के आधुनिकीकरण का काम चल रहा है। इन हवाई पट्टियों का इस्तेमाल असैन्य उड़ानों के लिए भी किया जाएगा, जिससे क्षेत्र में पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। तुरिग क्षेत्र में बनी हवाई पट्टी पर वायुसेना का मालवाहक विमान सी-130 जे सुपर हरक्यूलिस उतर सकेगा। इस हवाई पट्टी में विमान को रात में उतारे जाने की भी व्यवस्था है ।