...तो शुरु हो गया इंडिया का 'त्योहार', जानिए IPL की खास बातें

वैभव भोला, नई दिल्ली (8 अप्रैल): आईपीएल सीजन-9 का आगाज हो गया। ओपनिंग सेरेमनी के बाद अब बारी मैदान पर दे दना दन की है। .हर टीम तैयार है। हर कप्तान ने कमर कस ली है। क्योंकि फटाफट क्रिकेट में हर किसी की नजर चैंपियन बनने पर है।

2008 से लेकर 2015 तक आईपीएल में क्रिकेट का हर रोमांच दिखाई दिया है। अब एक बार फिर उसी रोमांच के लिए आईपीएल पूरी तरह तैयार है।

खत्म हुआ दर्शकों का इंतजार

एक बार फिर सिर चढ़कर बोलेगा क्रिकेट का बुखार क्योंकि लौट आया है इंडिया का त्योहार। भारत में पहली बार खेला गए वर्ल्ड टी-20 सुपरहिट रहा। लेकिन अभी क्रिकेट के महाकुंभ का बुखार उतरा ही था कि कल से वापसी हो रही है क्रिकेट की सुपर हिट लीग IPL के नौंवे सीजन की। जिसमें दम दिखाने के लिए वर्ल्ड के तमाम दिग्गज खिलाड़ी भारत पहुंच गए हैं और मैदान में कड़ा अभ्यास भी लगातार जारी है। 

इससे पहले इंडियन प्रीमियर लीग के 8 सीजन खेले जा चुके हैं जो सुपर हिट रहे। IPL के मैचों के लिए स्टेडियम तो खचाखच भरे ही होते हैं साथ ही टीआरपी के सभी रिकॉर्ड भी क्रिकेट की सुपरहिट लीग के नाम दर्ज हैं। उम्मीद है कि इस बार IPL 8 की टीआरपी का रिकॉर्ड भी टूट जाएगा। क्योंकि इस बार इंडिया की क्रिकेट लीग को मिली हैं 2 नई टीमें। पहली बार कैप्टन कूल महेंद्र सिंह धोनी चेन्नई के लिए नहीं पुणे की कप्तानी करते नजर आएंगा। तो वहीं सुरेश रैना संभालेंगे गुजरात की कमान।

टीम इंडिया के टॉप खिलाड़ियों की मौजूदगी में तो धोनी ने चेन्नई सुपर किंग्स को फर्श से अर्श तक पहुंचाया। लेकिन अब देखना ये है कि रैना और जडेजा जैसे खिलाड़ी की गौरमौजूदगी में धोनी वही करिशमा दिखा पाते हैं या नहीं। ये देखने वाली बात होगी। वैसे इसमें कोई 2 राहें नहीं हैं कि IPL से भारतीय क्रिकेट को काफी फायदा हुए है। एक ओर जहां खिलाड़ियों की कमाई हुई। वहीं दूसरी ओर दुनिया के टॉप खिलाड़ियों के साथ खेलने से युवा खिलाड़ियों के खेल में काफी सुधार आया।

IPL की शुरुआत साल 2008 में हुई थी और पहले सीजन पर ही राजस्थान रॉयल्स ने अपना कब्जा जमाया था। साल 2009 में खेले गए IPL पर डेक्कन चार्जर्स ने कब्जा किया था। साल 2010 में पहली बार चेन्नई सुपर किंग्स ने इस ट्रॉफी पर अपना कब्जा किया था। तो वहीं 2011 में एक बार फिर धोनी की ही कप्तानी में चेन्नई ने ये खिताब अपने नाम किया था। 

2012 में गौतम गंभीर की कप्तानी में कोलकाता ने जीता था IPL। साल 2013 में पहली बार मुंबई इंडिया ने किया था IPL पर कब्जा। साल 2014 में एक बार फिर गौतम ने कोलकाता को चैंपियन बनाया था, तो वहीं पिछले साल मुंबई इंडियंस ने दूसरी बार जीती थी IPL ट्रॉफी। अगर इन टीमों के बीच किसी टीम को सबसे ज्यादा निराश हाथ लगी है तो वै बैंगलोर की टीम- गेल, डिविलियर्स, विराट कोहली जैसे बड़े खिलाड़ियों वाली बैंगलोर की टीम एक बार फिर कागज के पन्नों पर मजबूत नजर आ रही है। साथ ही खिताब के लिए दावा भी ठोक रही है।

मुंबई में हुई ओपनिंग सेरेमनी से IPL का शंखनाद हो चुका है। अब देखना ये है कि इस बार कौनसी टीम इस चमचमाती ट्रॉफी पर अपना कब्जा जमाती है?