भारत से रूस तक बिछेगी गैस पाइपलाइन, 25 अरब डॉलर होंगे खर्च

नई दिल्ली 16 अक्टूबर: ब्रिक्स में भारत और रूस के बीच जो अ‍हम समझौते हुए उनमें दोनों देशों के बीच बिछाई जाने वाले गैस पाइपलाइन भी है। दोनों देशों के बीच दुनिया की सबसे महंगी 25 अरब डॉलर की पाइपलाइन निर्माण की संभावना तलाशने पर सहमति बनी है।

इस पाइपलाइन से साइबेरिया से प्राकृतिक गैस का परिवहन दुनिया के तीसरे सबसे अधिक ऊर्जा खपत वाले देश भारत को किया जाएगा। यह 4,500 से 6,000 किलोमीटर की पाइपलाइन रूसी ग्रिड को भारत से जोड़ेगी। सबसे छोटे मार्ग से यह पाइपलाइन हिमालय के रास्ते उत्तर भारत से जुड़ेगी। हालांकि, इस मार्ग में कई तकनीकी चुनौतियां हैं।

वैकल्पिक मार्ग से यह पाइपलाइन मध्य एशियाई देशों…ईरान और पाकिस्तान से पश्चिमी भारत आ सकती है। हालांकि, यह मार्ग ईरान-पाकिस्तान-भारत की छोटी और सस्ती पाइपलाइन की तुलना में महंगी बैठेगी। अधिकारियों ने कहा कि ईरान द्वारा भारत को यह सुझाव दिया जा सकता है कि वह इतनी महंगी पाइपलाइन के निर्माण के बजाय गैस आईपीआई से लेकर जाए। तीसरा और सबसे लंबा विकल्प चीन और म्यांमार के रास्ते बांग्लादेश को अलग करते हुए पूर्वोत्तर भारत में पाइपलाइन लाना है।

सार्वजनिक क्षेत्र की इंजीनियर्स इंडिया लि. ने शनिवार को रूसी गैस कंपनी गैजप्रोम के साथ रूस-भारत पाइपलाइन के अध्ययन के लिए शनिवार (15 अक्टूबर) को करार पर दस्तखत किए। इंजीनियर्स इंडिया के शुरुआती अनुमान के अनुसार सबसे लंबे 6,000 किलोमीटर के मार्ग पर इसकी लागत 25 अरब डॉलर बैठेगी।