भारत-रूस के इस समझौते से निकली चीन की चीख, पाक भी परेशान


नई दिल्ली (19 जुलाई):
इस समय पाकिस्तान से ज्यादा भारत के सामने चीन परेशानी खड़ी कर रहा है। मोदी सरकार ने रूस के साथ मिलकर 5th जनरेशन के फाइटर एयरक्राफ्ट्स बनाने का समझौता किया है, जिससे चीन और पाकिस्तान दोनों परेशान है।

इसके लिए भारत और रूस के बीच जल्द कॉन्ट्रैक्ट साइन होगा। इन एयक्राफ्ट्स के डेवलपमेंट के लिए लंबे समय से इंतजार चल रहा है। रोस्टेक स्टेट कॉरपोरेशन के CEO सर्गेई शेमेजोव ने कहा, "बहुत जल्द दोनों देशों के बीच FGFA डेवलप करने के कई अरब डॉलर के प्रोजेक्ट पर सभी फैसले ले लिए जाएंगे। FGFA पर काम चल रहा है। पहली स्टेज पार हो गई है और अब हम दूसरी स्टेज को लेकर बात कर रहे हैं। मुझे लगता है कि जल्द ही सभी फैसले ले लिए जाएंगे और सभी कॉन्ट्रैक्ट डॉक्युमेंट्स पर साइन हो जाएंगे।"

दोनों ही देश FGFA को मिलकर डेवलप करेंगे। इंडिया के पास भी इसकी टेक्नोलॉजी पर रूस के बराबर हक होगा। पिछले साल फरवरी में डिफेंस मिनिस्ट्री से क्लियरेंस मिलने के बाद इंडिया और रूस ने इस प्रोजेक्ट पर बातचीत दोबारा शुरू की थी। तब से अब तक बजट संबंधी कमिटमेंट, वर्कशेयर, इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स (IPR) और टेक्नोलॉजी ट्रांसफर जैसे मुद्दों पर दोनों देशों के बीच आई अड़चनों को दूर किया गया।