पैसेंजर प्लेन खरीदने का मामले में भारत बना दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा देश

नई दिल्ली (1 जून): आने वाले दिनों में भारत यात्री विमान के मामले में दूनिया का तीसरा सबसे बड़ा देश बन जाएगा। भारत ने पैसेंजर प्लेन खरीदने में लंबी छलांग लगाने जा रहा है। यात्री विमान के मामले में भारत पूरी दुनिया में अमेरिका और चीन के बाद तीसरे नंबर का देश बन गया है। देश के तमाम बड़े एयरलाइंस कंपनियां 1000 से अधिक प्लेन खरीदने के लिए ऑर्डर देने जा रही है।  सिडनी के सेंटर फॉर एशिया पैसेफिक एविएशन की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में प्लेन का अनुपात सर्विस और ऑर्डर में काफी कम था, जो कि अब बढ़कर के 2.2 हो जाएगा।

भारत में फिलहाल तकरीबन 480 से यात्री हवाई जहाज है। इंडिगो और स्पाइसजेट जैसे लो कॉस्ट एयरलाइंस कंपनियों ने 880 विमानों का ऑर्डर दे रखा है। इसके अलावा जेट एयरवेज और विस्तारा जैसी कंपनियां भी नए विमानों का ऑर्डर देने जा रही हैं।  कंपनियों को 700 से अधिक विमानों की आपूर्ति अगले दशक तक होने की उम्मीद है। 400 विमान अगले 5 सालों में मिलने की उम्मीद है।

हालांकि इतने विमान विमानों को खरीदने के बाद उनको खड़ा करने के लिए भारत के पार्किंग की समुचित व्यवस्था नहीं है। अभी देश में जितने भी एयरपोर्ट हैं, उनमें विमानों को खड़ा करने के लिए बड़ी समस्या होने वाली है। दिल्ली, मुंबई जैसे बड़े शहरों में रनवे और टैक्सी बे में जगह काफी सीमित है।  ऐसे में इन एयरपोर्ट पर 400 से ज्यादा पार्किंग बे का निर्माण करना होगा, जिसके लिए अभी इंफ्रास्ट्रक्चर मौजूद नहीं है।