पाक को तबाह करने के लिए भारत ने बनाई यह पॉलिसी

प्रशांत देव, नई दिल्ली (20 सितंबर): पूरी दुनिया में आतंक को कूटनीतिक हथियार के तौर पर इस्तेमाल करने वाले पाकिस्तान को ये सौदा महंगा पड़ सकता है, क्योंकि अब हिंदुस्तान अंतर्राष्ट्रीय मंच पर पुख्ता सबूतों के साथ पाकिस्तान को आतंकी देश घोषित करने की मांग ज़ोर शोर के साथ उठाने की तैयारी कर रहा है।

एक रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया भर में जितने भी आतंकी हमले होते हैं, उसमें पचास फीसदी पाकिस्तान का हाथ होता है। इसीलिए अब वक्त आ गया है कि पाकिस्तान को आतंकी देश घोषित कराया जाए। हालांकि पाकिस्तान को आतंकी देश घोषिता कराना आसान नहीं होगा, लेकिन भारत को उम्मीद है कि अमेरिका की मदद से ऐसा संभव हो सकता है।

हिंदुस्तान से अमेरिका तक पाकिस्तान के पालतू आतंकी दहशत फैलाते हैं। दुनिया में शायद ही कोई आतंकी हमला हो जिसमें पाकिस्तान शामिल ना हो। दुनिया भर में दर्जनों ऐसे सबूत हैं जो बताते हैं कि 50 फीसदी आतंकी हमले में पाकिस्तानी ही शामिल हैं और पाकिस्तान की इस आतंकी साज़िश का सबसे ज़्यादा शिकार हिंदुस्तान और अमेरिका हो रहा है।

ताज़ा मामला हिंदुस्तान में उरी और अमेरिका में मैनहटन है, जहां शनिवार रात हुए एक धमाके में 29 लोग घायल हुए हैं। मैनहटन में हुए आतंकी हमले की जब जांच शुरू हुई तो पता चला की इस धमाके की साज़िश के तार भी पाकिस्तान से जुड़े हुए हैं। न्य़ूयॉर्क पुलिस ने 28 साल के पाकिस्तान मूल के व्यक्ति को हिरासत में लिया है। इस व्यक्ति की पहचान अहमद ख़ान राहामी बताई गई है। हिरासत में लिए जाने से पहले पुलिस और इस युवक के बीच गोलीबारी हुई थी।

सूत्रों के मुताबिक 7RCR में बैठक के बाद पुख्ता सबूतों के साथ भारत पाकिस्तान को आतंकी देश घोषित करने की मांग अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ज़ोर शोर के साथ उठाएगा और उसे अलग-थलग करने की वकालत भी करेगा। इतना ही नहीं US State Department's की एक रिपोर्ट के मुताबिक साल 2015 में 92 देशों में 11,774 आतंकी हमले हुए जबकि साल 2014 में 92 देशों में 28,328 आतंकी हमले हुए।

रिपोर्ट के मुताबिक इन सभी हमलों में 50 फीसदी पाकिस्तान शामिल थे। यानि आधे आतंकी हमले में पाकिस्तान का हाथ था। इतना ही नहीं नाइन इलेवन के बाद इंग्लैंड में 1,471 आतंकी पकड़े गए जिसमें ज़्यादातर पाकिस्तानी थी। इसी वजह से अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा को कहना पड़ा कि पाकिस्तान आतंकवादियों के लिए जन्नत है।