अब चीन भी छोड़ेगा पाकिस्तान का साथ !, भारत ने आतंकी मसूद पर फिर दिए सबूत

Image Credit: Google 

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (22 अप्रैल): दुनिया भर के आतंकियों के लिए स्वर्ग बने पाकिस्तान की आने वाले दिनों में मुश्किलें और बढ़ने वाली है। अगर सबकुछ ठीक रहा है तो आतंकी मसूद अजहर के मुद्दे पर चीन भी पाकिस्तान का साथ छोड़ सकता है। दरअसल भारत हर मुमकिन कोशिश में जुटा है कि चीन आतंकी मसूद अजहर के मसले पर यूएन में अपने रुख में बदलाव करे और भारत का साथ दे।दरअसल भारत के विदेश सचिव विजय गोखले दो दिवसीय चीन की यात्रा पर हैं। अपने इस यात्रा के दौरान विजय गोखले ने बीजिंग में चीन के विदेश मंत्री वांग यी के साथ मुलाकात की और एक बार फिर चीन के सामने पाकिस्तानी आतंकी मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित किए जाने की मांग रखी। मुलाकात के दौरान विजय गोखले ने भारत की ओर से चीन को वो सभी सबूत भी दिए गए, जिससे पता लगता है कि पुलवामा हमले में जैश के आतंकियों का ही हाथ था। इस दौरान यह भी दबाव बनाने की कोशिश की गई कि संयुक्त राष्ट्र 1267 प्रतिबंध समिति के समक्ष पाकिस्तान के आंतकी मसूद अजहर के खिलाफ चीन भारत और अन्य देशों का साथ दे।

आपको बता दें कि चीन हमेशा से पाकिस्तान से काफी करीब रहा है और उसने संयुक्त राष्ट्र 1267 प्रतिबंध समिति में भारत, अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस द्वारा अजहर के खिलाफ प्रस्ताव पर वीटो का इस्तेमाल कर कई बार आतंकी मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित किए जाने से बचाया है। 

गौरतलब है कि कुछ दिन पहले ही जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित किए जाने की मांग पर चीन ने अपना रुख साफ किया था। चीन ने कहा था कि मसूद अजहर पर उसका रुख पहले ही जैसा है। चीन ने कहा कि फ्रांस, ब्रिटेन और अमेरिका उस पर दबाव बनाने की कोशिश कर रहे हैं। चीन ने स्पष्ट किया है कि तीनों देश उसके ऊपर किसी भी तरह का दबाव नहीं बना सकते बस अपना पक्ष रख सकते हैं। चीन ने कहा कि 1267 प्रतिबंध समिति के नियमों के अंतर्गत ही इस मामले को सुलझाने का प्रयास किया जा रहा है।