भारतीय वायुसेना के सामने 'बौना' है पाकिस्तान, दूर-दूर तक नहीं टिकता


नई दिल्ली(20 मई): अंतरराष्‍ट्रीय कोर्ट में कुलभूषण जाधव का मामला हारने के बाद पाकिस्तान ने इस मानने से इनकार कर दिया है, जिसके बाद दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ता दिख रहा है। इंडियन एयर चीफ मार्शल बीएस धनोआ ने इंडियन एयरफोर्स के हर अफसर को किसी भी खतरे के लिए तैयार रहने को कहा है। एयर चीफ का ये आदेश बताता है दोनों देशों के बीच किस तरह का तनाव है। पिछले साल सितंबर में उरी हमले के बाद दोनों देशों के रिश्तों में और कड़वाहट आई है। उरी हमले के जवाब में भारतीय सेना ने पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक कर आतंकी ठिकानों को नष्ट किया। भारत की इस कड़ी कारवाई के बाद भी पाकिस्तान नहीं माना और लगातार सीजफायर का उल्लंघन करता रहा। पाकिस्तान की बौखलाहट का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि उसने कृष्णा घाटी में भारतीय जवानों के शवों के साथ बर्बरता की। पाकिस्तान की कायराना हरकत के बाद देशभर में गुस्सा है। इस बीच एयरचीफ का बयान दोनों देशों के बीच जारी तनाव को दर्शाता है। अगर युद्ध की स्थिति बनती है तो पाकिस्तान भारत के आगे नहीं टिक सकता। इस का प्रमाण 4 बार की लड़ाई है। चारों ही लड़ाई में भारत की जीत हुई थी। तो ऐसे में हम बात करें दोनों देशों के वायुसेना के ताकत को लेकर तो भारत पाकिस्तान से काफी आगे है।


-पाकिस्तान के मुकाबले भारत के पास एयरक्राफ्ट की संख्या दोगुनी से काफी ज़्यादा है। भारत के पास कुल 2,086 एयरक्राफ्ट हैं जबकि पाकिस्तान के पास सिर्फ 923 एयरक्राफ्ट हैं। भारत के पास 679 फाइटर प्लेन और 809 अटैक एयरक्राफ्ट है। पाकिस्तान के पास 394 अटैक एयरक्राफ्ट, 304 फाइटर प्लेन हैं। पाकिस्तान एयरफोर्स मैनपावर के मामले में भी भारत का मुक़ाबला नहीं कर सकती। भारत के एयरफोर्स की साइज 1.27 लाख है, जबकि पाकिस्तान की सिर्फ 65 हजार के करीब।


-पावर और टेक्नोलॉजी के इतर विदेश और कूटनीति में भी भारत लगातार पाकिस्तान को मात देता जा रहा है। भारत ने सार्क देशों के समूह में पाकिस्तान को अलग-थलग करने में कामयाबी हासिल की है। आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में अमेरिका और रुस सहित दुनिया के सभी देश भारत के साथ खड़े हैं। उरी हमले के बाद अमेरिका, बांग्लादेश और अफगानिस्तान ने तो पाकिस्तान में किये गये भारत के सर्जिकल स्ट्राइक का समर्थन भी किया है। भारत की कोशिश पाकिस्तान को पूरी दुनिया में अलग-थलग करने की है। भारत चाहता है कि पाकिस्तान को आतंकवादी देश घोषित किया जाए अगर इसमें हमें कामयाबी मिली तो इसका सीधा मतलब होगा की पाकिस्तान हमसे हार गया।