अब बांग्लादेश को 'रौशन' करेगा भारत, टेंशन में पाकिस्तान

 

नई दिल्ली (30 सितंबर): भारत पहली बार विदेशी धरती पर परमाणु ऊर्जा संयंत्र का निर्माण करने जा रहा है। भारत बांग्लादेश के रूपपुर में परमाणु ऊर्जा संयंत्र का निर्माण करेगा। इस परियोजना पर वह रूस के साथ मिलकर काम कर रहा है। भारत-रूस करार के तहत किसी अन्य देश में परमाणु ऊर्जा परियोजनाएं बनाने के मामले में यह पहला प्रयोग है। यह विदेश में भारत का पहला परमाणु ऊर्जा कार्यक्रम है।

इससे पहले परमाणु ऊर्जा आयोग के अध्यक्ष शेखर बसु ने अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (आइएईए) के 61वें सम्मेलन में कहा था कि हम बांग्लादेश में रूपपुर परमाणु ऊर्जा संयंत्र की स्थापना पर अपने रूसी और बांग्लादेशी साझेदारों के साथ गठबंधन कर रहे हैं।

रूपपुर परियोजना बांग्लादेश की पहली परमाणु ऊर्जा परियोजना होगी। इस परियोजना की दो इकाइयों के चालू होने से भारत और पाकिस्तान के बाद बांग्लादेश दक्षिण एशिया का तीसरा देश होगा जो परमाणु विखंडन से ऊर्जा का दोहन करेगा। इसकी हर इकाई की क्षमता 1200 मेगावाट की होगी। बसु ने बताया कि भारत सरकार ने देशज तकनीक पर आधारित 10 नई परमाणु ऊर्जा परियोजनाओं के निर्माण को मंजूरी दी है।