नेपाल को साथ लेकर चीन को सबक सिखाएगा भारत

नई दिल्ली (14 सितंबर): हाल ही में नेपाल के पीएम प्रचंड भारत के दौरे पर आने वाले है। इसे लेकर भारत ने एक बड़ी रणनीति भी तैयार की है। सूत्रों का कहना है कि मोदी सरकार नेपाल को कुछ शानदार ऑफर देकर अपने पाले में लाने की कोशिश करेगा ताकि चीन को सबक सिखाया जा सके।

सूत्रों ने कहा कि सरकार नेपाल को यह ऑफर दे सकती है कि वह उनके यहां ईस्ट-वेस्ट रेलवे लाइन डिवेलप करने में मदद करेगी। हालिया वक्त में नेपाल से रिश्तों में आई खटास और चीन के इस पड़ोसी मुल्क में बढ़ती दखल के मद्देनजर भारत का यह कदम यह अहम साबित हो सकता है।

कभी विद्रोही माओवादी कमांडर रहे प्रचंड ने भारत को अपने पहले दौरे के लिए चुना है। वे भारत के साथ रिश्तों को दोबारा से पटरी पर लाना चाहते हैं। प्रचंड ने पत्रकारों से बातचीत में कहा था कि भारत के साथ नेपाल के रिश्ते कुछ वक्त के लिए नरम पड़ गए। वे कड़वाहट को दूर करना चाहते हैं। भारत नेपाल की मदद करना चाहता है, जो फिलहाल मुश्किलों में है।

नेपाल उन साउथ एशियाई देशों में शामिल है, जहां भारत और चीन अपना प्रभाव बढ़ाने की कोशिश में लगे हुए हैं। भारत और नेपाल को स्वभविक सहयोगी माना जाता रहा है। हालांकि, चीन ने अपने कदम जमाते हुए यहां कई सड़क और अस्पताल बनवाए।