डाउनलोड स्पीड के मामले में नेपाल से भी पिछड़ा भारत

नई दिल्ली(23 दिसंबर): भारत इंटरनेट से डाउनलोड स्‍पीड के मामले में दुनिया में 96वें नंबर पर है वहीं एवरेज बैंडविड्थ के मामले में 105वें स्‍थान पर है। इसके अलावा सायबर सुरक्षा भी एक बड़ी समस्‍या है।


- जहां एक तरफ भारत डाउनलोड स्‍पीड के मामले में नेपाल और बांग्‍लादेश से भी पीछे है वहीं रेनसमवेयर अटैक्‍स के मामले में नंबर एक पर है। इस तरह के अटैक्‍स में यूजर के कम्‍प्‍यूटर सिस्‍टम को ब्‍लॉक किया जाता है और जब तक पैसा ना दिया जाए तब तक वो कम्‍प्‍यूटर नहीं चला पाता।


- एक्‍सपर्ट और यूजर्स दोनों ही सायबर क्राइम को लेकर चिंता में है जिसके अपराधियों को जिरो के बराबर सजा मिली है। एक्‍सपर्ट के अनुसार भारत में लोग सायबर हमलों और पर्सनल डेटा चोरी के शिकार आसानी से हो सकते हैं। उनका कहना है कि सरकार को एक ही वक्‍त में सपोर्टिंग इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर और सुरिक्षत ऑनलाइन ट्रांजेक्‍शन के लिए कदम उठाने चाहिए।


- जहां तक सायबर क्राइम की बात है तो भारत दुनिया में 6ठे नंबर पर है। पिछले एक साल में भारत में सायबर क्राइम के मामले दोगुना हो गए हैं। औसत इंटरनेट स्‍पीड की बात करें तो श्रीलंका, चीन, दक्षिण कोरिया, इंडोनेशिया, मलेशिया और कुछ दूसरे देश हमसे कहीं आगे हैं।


- एक्‍सपर्ट सरकार के डिजिटल ट्रांजेक्‍शन का तो स्‍वागत करते हैं लेकिन साथ ही देश में इंटरनेट इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर और शिक्षा पर दुख भी जताते हैं।


- नागपुर सायबर क्राइम पुलिस के डिप्‍टी कमिश्‍नर सचिन पाटिल के अनुसार लोगों में जागरुकता की भी जरूरत है। कार्ड से किए जाने वाले लेनदेन में किसी को भी अपना पिन नंबर और ओटीपी किसी को नहीं बताना चाहिए। लोग फर्जी फोन करते हुए बैंक के प्रतिनिधी होने का दावा करते हैं और पर्सनल जानकारी मांगते हैं।