अंडमान में आज तीसरा नेवी बेस खोलेगा भारत, चीन पर होगी नजर

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (24 जनवरी):  हिंद महासागर में चीन के युद्धपोतों एवं पनडुब्बियों पर नजर रखने के लिए भारतीय नौसेना गुरुवार को अंडमान एवं निकोबार द्वीप में अपना तीसरा एयर बेस खोलेगी। रिपोर्ट में सैन्य अधिकारियों एवं विशेषज्ञों के हवाले से कहा गया है कि भारत इस बेस के जरिए मलक्का जलडमरूमध्य से होकर हिंद महासागर में दाखिल होने वाले चीनी युद्धपोतों एवं पनडुब्बियों की निगरानी कर सकेगा। 

भारत ने हाल के दिनों में अपने पड़ोस में चीनी नौसेना की उपस्थिति और श्रीलंका से लेकर पाकिस्तान तक बनने वाले उसके वाणिज्यिक बंदरगाहों पर चिंता जताई है। भारत को आशंका है कि इन बंदरगाहों को नौसिक अड्डों में बदला जा सकता है। चीन की इस चुनौती से निपटने के लिए भारतीय सेना ने अंडमान द्वीप को चुना है। अंडमान द्वीप मलक्का जलडमरूमध्य के प्रवेश मार्ग के समीप स्थित है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सत्ता संभालने के बाद भारत यहां अपने युद्धपोत एवं लड़ाकू विमानों की तैनाती कर रहा है क्योंकि पीएम ने एक मजबूत सुरक्षा नीति अपनाने पर जोर दिया है।

नौसेना ने एक बयान में कहा कि एडमिरल सुनील लांबा नए बेस आईएनएस कोहासा को नेवी को समर्पित करेंगे। यह बेस राजधानी पोर्ट ब्लेयर से करीब 300 किलोमीटर उत्तर में स्थित है। इस द्वीप पर यह तीसरा सैन्य बेस है। इस बेस पर हेलीकॉप्टर एवं डॉर्नियर निगरानी एयरक्राफ्ट के लिए 1000 मीटर का रनवे बनाया गया है।  नौसेना के प्रवक्ता डीके शर्मा ने बताया कि आगे की योजना इस रनवे का विस्तार कर 3000 मीटर तक ले जाने की है ताकि लड़ाकू विमान यहां से उड़ान भर सकें। बता दें कि प्रत्येक साल हिंद महासागर से होकर करीब 1, 20,000 जहाज जाते हैं और उनसे से करीब 70,000 पोत मलक्का जलडमरूमध्य से गुजरते हैं। 

नौसेना के पूर्व कमॉडोर अनिल जै सिंह ने कहा, 'चीन अपनी मौजूदगी बढ़ा रहा है और वास्तव में हमें यदि उसकी उपस्थिति की निगरानी करनी है तो अंडमान द्वीप में पर्याप्त रूप से तैयार रहने की जरूरत है।' उन्होंने कहा कि यदि यहां पर हमारे एयर बेस होंगे तो हम बड़े इलाके की निगरानी कर पाएंगे। पूर्व सैन्य अधिकारी ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि नौसेना आने वाले समय में अपने युद्धपोतों की स्थाई रूप से तैनात करेगी।