कोसोवो के बॉक्सर को वीजा न देना पड़ सकता है भारत को भारी, मेजबानी की उम्मीदें हो सकती हैं 'नॉकआउट'

                                                       image source: Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली ( 14 नवंबर ): गुरुवार से दिल्ली में शुरू होने वाली एआईबीए महिला यूथ वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप से पहले ही भारत की मेजबानी पर सवाल खड़े हो रहे हैं। कोसोवो के खिलाड़ियों को वीजा देने में देरी के चलते भारत में आगे होने वाले बड़े टूर्नामेंटों की मेजबानी मुश्किल में पड़ सकती है। दरअसल, भारत इस वक्त एआईबीए विमिंज वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप की तैयारियों में जुटा है, लेकिन इवेंट से ज्यादा चर्चा में कोसोवो देश की चैंपियन डोनजीटा साडिकू हैं। दरअसल, उन्हें भारत में आयोजित टूर्नामेंट के लिए वीजा नहीं मिला है। पिछले एक साल से भी कम वक्त में भारत इस बॉक्सर को दूसरी बार वीजा देने से मना कर चुका है।

भारत के इंकार करने के पीछे बॉक्सर वजह नहीं है। दरअसल, बॉक्सर का देश यानी 'कोसोवो' साउथ-ईस्टर्न यूरोप में एक विवादित क्षेत्र है। भारत उसको मान्यता नहीं देता, इसलिए अब साडिकू और उनके दो कोचों को वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप, जो दिल्ली में हो रही है, के लिए वीजा नहीं दिया। भारत का कोसोवो में कोई दूतावास नहीं है और 19 साल की साडिकू के पास अलबेनिया की भी नागरिकता है, इसलिए उन्होंने साइबेरिया में मौजूद दूतावास में वीजा के लिए आवेदन दिया था। तीनों में से किसी के वीजा मंगलवार शाम तक मंजूरी नहीं मिली थी।

बता दें कि इससे पहले 2017 में भी भारत ने साडिकू को वीजा नहीं दिया था, जिस वजह से वह दिसंबर में गुवाहाटी में हुई वर्ल्ड यूथ बॉक्सिंग चैंपियनशिप में हिस्सा नहीं ले पाई थीं। कोसोवो हाल में बना एक देश है, जिसे संयुक्त राष्ट्र के कुल 193 देशों में से 113 ही मान्यता देते हैं। फिलहाल भारत उसे मान्यता न देने वालों की लिस्ट में शामिल है।

भारत निकट भविष्य में वर्ल्ड यूथ ओलंपिक की मेजबानी चाहता है, लेकिन साडिकू को वीजा नहीं देना दावे को कमजोर कर सकता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि इंटरनेशनल ओलंपिक कमिटी ने खुद कोसोवो को 2014 में मान्यता दी है। वह अब चाहता है कि किसी भी बड़े इवेंट्स की मेजबानी उसी देश को मिले, जो सभी देशों (कोसोवो देश सहित जो भी सदस्य हैं) की हिस्सेदारी को तय कर सके। अगर कोई ऐसा नहीं करता है तो उसे मेजबानी मिलनी मुश्किल है।

इस बारे में बीएफआइ के प्रेजिडंट अजय सिंह ने बताया, 'हमने इस मामले को विदेश मंत्रालय के सामने उठाया है। मुझे नहीं लगता है कि इस वजह से टूर्नामेंट पर कोई आंच आएगी। यह एक ग्लोबल मामला है, क्योंकि सिर्फ भारती ही नहीं कई ऐसे देश हैं, जो कोसोवो पर ध्यान नहीं देते। आईओसी इस मामले पर सभी सदस्य देशों के साथ मिलकर रास्ता निकालेगा। भारत को ब्लैकलिस्ट करना रास्ता नहीं है।'