पाकिस्तान को झटका, भारत को किशनगंगा-रातले प्रोजेक्ट पर मिली मंजूरी

नई दिल्ली(2 अगस्त): विश्व बैंक में भारत को बड़ी जीत मिली है। बैंक ने झेलम और चेनाब नदी की सहायक नदियों पर पनबिजली परियोजनाओं के निर्माण की अनुमति भारत को दे दी है। 

- पाकिस्तान ने किशनगंगा (330 मेगावाट) और रातले (850 मेगावाट) हाइड्रोपावर परियोजना का विरोध कर रहा था।

- भारत और पाकिस्तान के बीच सिंधु जल समझौता को लेकर सचिव स्तर की बातचीत विश्व बैंक में हुई।

- विश्व बैंक ने कहा, 'समझौते की विभिन्न शर्तों के अनुसार भारत को अन्य इस्तेमाल के साथ ही हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर निर्माण करने का अधिकार है।' इ

- सके साथ ही विश्व बैंक ने कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच सचिव स्तर की वार्ता काफी सौहार्द्रपूर्ण वातावरण में हुई।

- दोनों ही पक्षों ने बातचीत को जारी रखने की प्रतिबद्धता जताई है। सितंबर में दोनों पक्ष एक बार फिर इस मुद्दे पर चर्चा करेंगे।
और पढ़ें: बुरहान वानी से अबू दुजाना तक सुरक्षाबलों ने किया इन आंतकियों को ढेर

- विश्व बैंक ने अपने बयान में कहा है कि पाकिस्तान ने पावर प्रोजेक्ट के डिज़ाइन को लेकर सवाल उठाए थे और कहा था कि उसकी चिंताओं को अदालत के माध्यम से हल किया जाए।

- भारत ने पाकिस्तान की आपत्तियों पर एक निष्पक्ष विशेषज्ञ नियुक्त करने की मांग की। भारत का कहना है कि पाकिस्तान की आपत्तियां तकनीकी हैं।