सिंध के बिना भारत अधूरा, भारत का हिस्सा बने कराची !

नई दिल्ली (16 दिसंबर): बीजेपी के मार्गदर्शक मंडल के सदस्य लालकृष्ण आडवाणी को सिंध की कमी अक्सर खलती है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के एक कार्यक्रम में आडवाणी का यह भाव उस समय बाहर आया जब उन्होंने कहा कि भारत पाकिस्तान के सिंध के बिना अधूरा लगता है। प्रजापति ब्रह्म कुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय के 48वें अधिरोहण समारोह को संबोधित करते हुए उन्होंने इस बात पर खेद प्रकट किया कि कराची, भारत का हिस्सा नहीं है और सिंध के बिना भारत अधूरा लगता है। आडवाणी का जन्म एक सिंधी परिवार में हुआ था। उन्होंने कहा, 'कभी-कभी मैं महसूस करता हूं कि कराची और सिंध अब भारत का हिस्सा नहीं रहे। मैं बचपन के दिनों में सिंध में आरएसएस में काफी सक्रिय था। मेरा मानना है कि सिंध के बिना भारत अधूरा है।' अपने संबोधन में आडवाणी ने आरएसएस में अधिक महिलाओं को शामिल करने की वकालत भी की। महिलाओं को शामिल करने पर ‘प्रजापति ब्रह्मकुमारी’ संगठन की प्रशंसा करते हुए आडवाणी ने कहा कि वे चाहते हैं कि लोग और आरएसएस इसका अनुसरण करें। आडवाणी आरएसएस से जुड़े रहे थे। आडवाणी ने कहा, 'मैंने ऐसा कोई संगठन नहीं देखा है जिसका नेतृत्व मुख्य रूप से महिलाएं करती हैं। यह अद्भुत है।