अति अमीरों के मामले में चौथे स्थान पर भारत

नई दिल्ली ( 7 नवंबर ): भारत अत्यंत अमीरों यानी मिलियेनरों की संख्या के मामले में एशिया-प्रशांत क्षेत्र में चौथे स्थान पर है। देश में 219,000 लोग अति अमीर हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक देश में इन अमीरों की कुल संपदा 877 अरब डॉलर है।

कैपजेमिनी ने मंगलवार को वर्ष 2017 की एशिया-पैसेफिक वेल्थ रिपोर्ट जारी की। रिपोर्ट के मुताबिक एशिया-प्रशांत क्षेत्र के कुल मिलियेनरों यानी अत्यंत अमीरों में से चार फीसद भारत में रहते हैं। उनकी संख्या के मामले में भी भारत का चौथे स्थान पर है।

अत्यंत अमीरों की संपत्ति के आंकलन में उनकी निवेश योग्य परिसंपत्तियों को शामिल किया गया है। उनके मुख्य आवास, संग्रहरणीय वस्तुओं, उपभोक्ता व टिकाऊ वस्तुओं को शामिल नहीं किया गया है।

रिपोर्ट के अनुसार 2016 के अंत में जापान में अति अमीरों की संख्या जापान 28.91 लाख, चीन में 11.29 लाख और ऑस्ट्रेलिया में 2.55 लाख थी। वर्ष 2015 व 2016 के दौरान भारत में अति अमीरों की संख्या 9.5 फीसद बढ़ी। यह वृद्धि समूचे क्षेत्र में अति अमीरों की संख्या में वृद्धि दर 7.4 फीसद से ज्यादा रही।

मिलियेनर उसे माना गया है जिसकी संपत्ति कम से कम दस लाख डॉलर (6.5 करोड़ रुपये) है। भारत में वर्ष 2015 में संपदा वृद्धि दर लगभग स्थिर 1.6 फीसद रही।