देश में लोगों के स्वास्थ्य पर GDP का सिर्फ 1% खर्च करती है भारत सरकार

न्यूज24 ब्यूरो, नई दिल्ली ( 20 जून ): भारत अपनी जीडीपी का 1 प्रतिशत देश में लोगों की स्वास्थ्य पर खर्च करता है, तो वहीं सिंगापुर अपनी जीडीपी का 2.2 प्रतिशत हिस्सा खर्च करता है। जबकि स्वीडन अपनी जीडीपी का 9.2% हिस्सा और फ्रांस 8.7% स्वास्थ्य पर खर्च करते हैं।केंद्र सरकार का दावा है कि वह अपनी महात्वाकांक्षी योजना नेशनल हेल्थ प्रोटेक्शन स्कीम (एनएचपीएस) के तहत 10 करोड़ गरीब परिवारों को पांच लाख रुपये का मेडिकल कवर देने जा रही है।आंकड़ों के मुताबिक साल 2015-16 में स्वास्थ्य पर हुआ कुल खर्च 140,054 करोड़ रुपये था। टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार 2015-16 में स्वास्थ्य पर भारत की प्रति व्यक्ति सार्वजनिक व्यय 621 रुपये से बढ़कर 2015-16 में 1,112 रुपये हो गई हालांकि, यह अभी भी अन्य देशों की तुलना में "नाममात्र" है।स्विट्ज़रलैंड प्रति व्यक्ति स्वास्थ्य पर 6944 डॉलर खर्च करता है, जबकि अमेरिका 4802 डॉलर और यूके 3500 डॉलर खर्च करता है। एनएचपी में 2016-17 में किसी भी स्वास्थ्य बीमा के तहत यह पहली बार हुआ है जब 43 करोड़ व्यक्तियों या 34% आबादी को कवर किया गया है।2017 के लिए डब्ल्यूएचओ की स्वास्थ्य वित्तपोषण प्रोफ़ाइल से पता चलता है कि भारत में स्वास्थ्य पर कुल व्यय का 67.78% जेब से चुकाया जाता है जबकि यह दुनियाभर में औसत 18.2% है. 2015-16 में स्वास्थ्य पर कुल सार्वजनिक व्यय 140,054 करोड़ रुपये था।