रूस के बाद अमीरी-गरीबी की सबसे बड़ी खाई भारत मेंं

नई दिल्ली (5 सितंबर): अमीरी-गरीबी के मामले में रूस के बाद दुनिया में भारत दूसरा सबसे ज्यादा असमानता वाला देश है। भारत में देश की कुल संपत्ति की आधे से अधिक ऐसे धनाढ्यों के हाथ में केंद्रित है जिनकी हैसियत दस लाख डॉलर से अधिक की है।

न्यू वर्ल्ड वेल्थ के एक सर्वे के अनुसार रूस के बाद भारत दुनिया का दूसरा सबसे ज्यादा असमानता वाला देश है जहां देश की 54 प्रतिशत संपत्ति मात्र कुछ करोड़पतियों के हाथ में है। हालांकि, भारत दुनिया के 10 सबसे अमीर देशों में है जहां कुल संपत्ति 5,600 अरब डॉलर है लेकिन औसतन भारतीय गरीब है। रूस दुनिया का सबसे ज्यादा असमानता देश है जहां कुल संपत्ति के 62 प्रतिशत पर मात्र कुछ धनकुबेरों का नियंत्रण है।

वहीं दूसरी तरफ जापान दुनिया पर सबसे ज्यादा समानता वाला देश हैं जहां धनाढ्यों के हाथ में कुल संपत्ति का केवल 22 प्रतिशत हिस्सा है। इसी तरह ऑस्ट्रेलिया में भी कुल संपत्ति के मात्र 28 प्रतिशत पर ही करोड़पतियों का आधिपत्य है। रिपोर्ट के अनुसार इसी तरह अमेरिका और ब्रिटेन भी समानता वाले देशों में हैं। इनमें कुल संपत्ति के क्रमश: 32 प्रतिशत और 35 प्रतिशत पर ही धनाढ्यों का कब्जा है।