20 साल बाद पाक के खिलाफ भारत की ये बड़ी कार्रवाई, नवाज़ की हालत पतली

नई दिल्ली (24 जनवरी):  जम्मू-कश्मीर के उरी में हुए आतंकी हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान के खिलाफ बहुत सख्त रवैया अपनाते हुए पाकिस्तान को सबक सिखाने का फैसला कर ही लिया है। और इसी क्रम में पीएम मोदी ने गुरुवार को पाकिस्तान को मिलने वाले मोस्ट फेवर्ड नेशन (एमएफएन) को लेकर समीक्षा बैठक बुलाई है।

उरी में हुए आतंकी हमले के बाद भारत में लगातार ही पाकिस्तान के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की मांग हो रही है। ऐसे में भारत सरकार की और से जो भी कदम उठाए जाएंगे उसमें पाकिस्तान की मुश्किल बढ़ सकती है। भारत अगर पाकिस्तान से यह दर्जा वापस लेता है तो उसकी आर्थिक और सामाजिक स्थिति पर काफी बुरा असर पड़ेगा। और साथ ही पाकिस्तान को कई सारे मसलों पर भारत का समर्थन नहीं मिल सकेगा और पाकिस्तान को कई तरह की परेशानियों का सामना भी करना पड़ेगा।

एमएफएन स्टेट्स दिए जाने पर दूसरा देश इस बात को लेकर आश्वस्त रहता है कि उसे व्यापार में कोई भी नुकसान नहीं पहुंचाया जाएगा। भारत ने पाकिस्तान को 1996 में एमएफएन का दर्जा दिया था। इसकी वजह से ही पाकिस्तान को अधिक आयात कोटा और कम ट्रेड टैरिफ मिलता है। हालांकि, इसके बदले में पाकिस्तान ने आश्वासन देने के बावजूद भी भारत को अभी तक एमएफएन दर्जा नहीं दिया है।