ऐतिहासिक स्तर पर भारतीय विदेशी मुद्रा भंडार, पहली बार पहुंचा 400 अरब डॉलर के पार

नई दिल्ली (15 सितंबर): भारत का विदेश मुद्रा भंडार ऐतिहासिक स्तर पर पहुंच गया है। भारत का विदेश मुद्रा भंडार पहली बार 400 अरब डॉलर के पार पहुंच गया है। आरबीआई की ओर से जारी आंकड़े के मुताबिक 8 सितंबर को समाप्त हुए सप्ताह में यह 400.726 बिलियन के स्तर पर पहुंच गया। 

आरबीआई की ओर से जारी आंकड़े के मुताबिक बीते हफ्ते में रिजर्व 3.572 बिलियन डॉलर बढ़कर 398.122 बिलियन डॉलर हो गया है। विदेशी मुद्रा भंडार में सबसे अधिक हिस्सेदारी फॉरेन करेंसी एसेट यानी FCA की होती है। यह 2.568 बिलियन डॉलर बढ़कर 376.209 बिलियन डॉलर हो गया।

RBI के मुताबिक विदेशी मुद्रा भंडार को डॉलर में व्यक्त किया जाता है और इस पर भंडार में मौजूद पाउंड, स्टर्लिंग, येन जैसी अंतरराष्ट्रीय मुद्राओं के मूल्यह्रास और मूल्यवृद्धि का असर पड़ता है। वहीं, गोल्ड रिजर्व 20.691 बिलियन डॉलर के स्तर पर बरकरार रही है। साथ ही आरबीआई का कहना है कि अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष यानी IMFके साथ स्पेशल ड्रॉइंग राइट्स भी 14.2 मिलियन डॉलर बढ़कर 1.520 बिलियन डॉलर हो गया है। देश की IMF के साथ पोजिशन भी 21.4 मिलियन डॉलर बढ़कर 2.304 बिलियन डॉलर हो गई है।