देश में 30% ड्राइविंग लाइसेंस फर्जी, अब होगा इलेक्ट्रॉनिक रजिस्ट्रेशन

नई दिल्ली (1 अप्रैल): रोड ट्रांसपोर्ट मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि अब फर्जी ड्राइविंग लाइसेंस वाले बच नहीं सकते, क्योंकि अब ई-गवर्नेंस के तहत ड्राइविंग लाइसेंस का इलेक्ट्रॉनिक रजिस्ट्रेशन किया जाएगा। उन्होंने एक बड़ा खुलासा करते हुए कहा कि देश में 30 फीसदी ड्राइविंग लाइसेंस फर्जी हैं।


गडकरी ने कहा, "अब ड्राइविंग लाइसेंस ई-गवर्नेंस के तहत इलेक्ट्रॉनिकली रजिस्टर्ड किए जाएंगे। रीजनल ट्रांसपोर्ट ऑफिस (RTO) को ड्राइविंग टेस्ट क्लियर करने वाले शख्स को 3 दिन के भीतर लाइसेंस इश्यू करना होगा।"


- लाइसेंस रखने वाले शख्स के बारे में जानकारी पूरे देश में उपलब्ध रहेगी।

- इससे कोई भी शख्स फर्जी लाइसेंस रजिस्टर नहीं करवा पाएगा।

- कोई भी शख्स, चाहे वो कितना भी बड़ा या छोटा क्यों ना हो, उसे ड्राइविंग टेस्ट देना होगा।

- ड्राइविंग टेस्ट पास न करने वाले को लाइसेंस किसी भी हालत में इश्यू नहीं किया जाएगा।

- देश में अभी तक 28 ड्राइविंग एग्जामिनेशन सेंटर्स खोले गए हैं।

- इसके अलावा 2000 और सेंटर्स भी खोले जाएंगे।

- अगर RTO ड्राइविंग टेस्ट के तीन दिन के भीतर लाइसेंस इश्यू नहीं करता है, तो उसके खिलाफ तुरंत एक्शन

लिया जाएगा। इससे करप्शन फ्री और ट्रांसपेरेंट माहौल बनेगा।