भारत के 'हॉक' से डरा चीन, खत्म करेगा उसकी बादशाहत

नई दिल्ली (6 फरवरी): भारत अब हथियारों को खुद निर्मित करने पर जोर देने में लगा हुआ है, जिससे वह रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भर हो सके। इसी कड़ी में हिन्दुस्तान एयरोनॉटिकल लिमिटेड (एचएएल) और बीएई (ब्रिटेन) द्वारा मिलकर दो साल में तैयार किया गया है हॉक विमान जो चीन की डिफेंस मार्केट में सेंध लगाने के लिए काफी है।

भारत और ब्रिटेन ने इस विमान पर दो साल तक काम किया है। अब यह विमान पहले की अपेक्षा काफी हल्का व कई अहम हथियार ले जाने में सक्षम है। डिफेंस मार्केट में चीन की बढ़ती चमक को फीका करने के लिए भारत का यह विमान काफी उपयोगी साबित हो सकता है।

- इस तरह के विमान विकसित कर भारत डिफेंस मार्केट में बड़ा निर्यातक बनने की ओर अग्रसर है।

- भारत-ब्रिटेन द्वारा संयुक्त रूप से रूप से विकसित किए गए इस विमान को महीने के अंत में पेश किया जाएगा।

- खबर के मुताबिक हॉक विमान को अगले हफ्ते बंगलुरु में होने वाले ऐरोइंडिया शो के लिए तैयार किए जा रहा है।

- इस अपडेटेड विमान में नई डिजाइन के साथ-साथ कई नए फीचर हैं।

- विमान की नई डिजाइन इसे और भी ज्यादा खतरनाक बनाती है।

- यह विमान अब पहले से ज्यादा छोटे हथियारों को ले जा सकता है।