ब्रिक्स में भारत की बड़ी जीत, निकली चीन-पाकिस्तान की हेकड़ी

नई दिल्ली (4 सितंबर): ब्रिक्स समिट में भारत को उस समय एक बड़ी सफलता हाथ लगी, जब घोषणापत्र में आतंकवाद का मुद्दा शामिल किया गया। इस घोषणापत्र में पाकिस्तान और वहां पर पल रहे आतंकी संगठनों का नाम जोड़ा गया। ऐसा पहली बार हुआ है, जब चीन के सबसे बड़े दोस्त पाकिस्तान को ब्रिक्स में आतंकवाद के लिए सीधे जिम्मेदार ठहराया गया है।

ब्रिक्स श्यामन घोषणापत्र के 48वें पैराग्राफ में आतंकवाद पर कड़ी चिंता व्यक्त की गई है। इसमें लिखा गया है कि हम लोग आस-पास के इलाके में फैल रहे आतंकवाद और सुरक्षा की घटनाओं पर चिंता व्यक्त करते हैं। इन इलाकों में तालिबान, ISIL, अल-कायदा से खतरा है। वहीं ईस्टर्न तुर्कीस्तान इस्लामिक मूवमेंट, इस्लामिक मूवमेंट ऑफ उजबेक्सितान, हक्कानी नेटवर्क, जैश-ए-मोहम्मद, टीटीपी और हिज्बुल उत तहरीर का जिक्र किया गया है।

आपको बता दें कि चीन लगातार पाकिस्तान समर्थक आतंकी संगठनों को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आतंकवादी घोषित करने में अड़ंगा लगाता रहा है, लेकिन ब्रिक्स के घोषणापत्र में इनका जिक्र होना भारत के लिए बड़ी सफलता है।