चीन और नेपाल के बीच हुए 14 समझौते, ये प्रोजेक्ट भारत के लिए बनेगा परेशानी का सबब

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (22 जून): भारत को चीन के जिस कदम से सबसे ज्यादा खतरा है, वह तकरीबन पूरा होता हूआ दिखाई दे रहा है। चीन और नेपाल के बीच रेल लाइन पर समझौता हो गया है। 

नेपाल के पीएम के. पी शर्मा ओली 19 जून से पांच दिनों की चीन की यात्रा पर हैं। इस दौरान उन्होंने 14 समझौतों पर हस्ताक्षर किए हैं। इसमें एक समझौता रेल नेटवर्क से जुड़ा हुआ भी है। जानकारों की मानें तो यह रेल नेटवर्क भविष्य में भारत के लिए सबसे बड़ा खतरा बन सकता है। यह रेल लाइन तिब्बत और नेपाल को जोड़ेगा। शिगास्ते (तिब्बत) से ट्रेन काठमांडू तक पहुंचेगी।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक वर्तमान में इसका उद्धेश्य चीन और नेपाल के बीच व्यापार को बढ़ावा देना है। हालांकि इस प्रोजेक्ट की मदद से चीन भारत की सीमा के बेहद करीब तक रेल लाइन पहुंचा देगा।

इसके अलावा चीन सड़क  परियोजना पर भी काम कर रहा है। आपको बता दें कि चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग सहित अन्य शीर्ष नेताओं के साथ हुई बैठक के बाद यह समझौते हुए हैं। साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट की खबर के मुताबिक दोनों देशों ने कल 2.4 अरब डॉलर के 8 समझौतों पर हस्ताक्षर किए। इसमें जलविद्युत परियोजनाएं, सीमेंट फैक्टरी और फल उत्पादन शामिल हैं।