चीन की नई चाल से टेंशन में भारत, श्रीलंका के बाद अब म्यांमार में बंदरगाह बनाएगा ड्रैगन

Image credit: Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (10 नवंबर): चालबाज चीन भारत को घेरने का कोई मौका नहीं छोड़ना चाहता। समुद्री सीमाओं से भारत के घेरने की कोशिशों में जुटा ड्रैगन पाकिस्तान और श्रीलंका का बाद म्यांमार में बंदरगाह बनाने जा रहा है। जानकारी के मुताबिक म्यांमार के क्याकप्यू शहर के पास बंगाल की खाड़ी में अरबों डॉलर की लागत से बंदरगाह विकसित करने के लिए चीन ने म्यांमार के साथ समझौता किया है।भारत के लिए यह गंभीर चिंता का विषय है, क्योंकि चीन पहले ही भारत के दो पड़ोसी देशों पाकिस्तान और श्रीलंका में बंदरगाहों का विकास कर रहा है। आपको बता दें कि चीन पाकिस्तान में ग्वादर बंदरगाह विकसित कर रहा है तो श्रीलंका के हंबनटोटा बंदरगाह को 99 साल की लीज पर ले रखा है। इसके अलावा बांग्लादेश में चटगांव बंदरगाह के विकास में भी वह आर्थिक मदद मुहैया करा रहा है। भारत इसे हिंद महासागर में सामरिक रूप से उसे घेरने की चीन की चाल के रूप में देखता है।जानकारों के मुताबिक भारत को घेरने के लिए चीन रणनीति के तहत पड़ोसी देशों में रणनीतिक तौर पर अहम जगहों पर बंदरगाह बना रहा है। हालांकि चीन ने हमेश इन आरोपों से इंकार किया है। ग्लोबल टाइम्स ने कहा कि चीन की सरकारी कंपनी सिटिक ग्रुप की अगुवाई में कंपनियों के एक समूह ने म्यांमार की राजधानी ने-प्सी-ताव में क्याउक्प्यू विशेष आर्थिक क्षेत्र प्रबंधन समिति के साथ करार की रूपरेखा पर हस्ताक्षर किया। करार के तहत चीन निवेश का 70 फीसदी देगा जबकि म्यांमार शेष 30 फीसदी की फंडिंग करेगा। परियोजना के शुरुआती चरण में 1.3 अरब डॉलर के निवेश से बनने वाला दो गोदी शामिल है। बंदरगाह के निर्माण और परिचालन के लिए संयुक्त उपक्रम बनाया जाएगा।