'डोकलाम' से पहले जैसे हो चुके हैं भारत और चीन के संबंध: सेना प्रमुख बिपिन रावत

नई दिल्ली ( 17 जनवरी ): सिक्किम सेक्टर के डोकलाम में चीनी सैनिकों की मौजूदगी पर सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत ने बुधवार को कहा कि यह कोई बहुत गंभीर बात नहीं है। सेना प्रमुख ने कहा कि दोनों देशों के बीच संबंध अब 'डोकलाम' से पहले जैसे हो चुके हैं। 

एक कार्यक्रम में सेना प्रमुख ने कहा कि डोकलाम के एक हिस्से में चीनी सैनिक मौजूद हैं, लेकिन उनकी संख्या बहुत अधिक नहीं है। जनरल रावत ने कहा कि चीनी सैनिकों ने इनफ्रास्ट्रक्चर डेवेलपमेंट के कुछ काम किए हैं, लेकिन वे ज्यादातर अस्थायी तरह के हैं। उन्होंने कहा कि दोनों देशों के संबंध 'डोकलाम' से पहले जैसे हो चुके हैं।

सेना प्रमुख ने कहा कि सीमा पर चीनी सैनिकों के निर्माण उपकरण हैं, लेकिन हो सकता है कि सर्दी की वजह से वे अपने उपकरणों को नहीं ले पाए होंगे। उन्होंने कहा कि भारतीय सेना भी वहां मौजूद है और अगर चीनी सैनिक वापस आते हैं तो हम उनका सामना करेंगे। दोनों देशों के बीच तनाव कम करने के मेकनिजम की तारीफ करते हुए सेना प्रमुख ने कहा कि 'डोकलाम' के बाद दोनों देशों के बीच तनाव कम करने की का मेकनिजम बहुत अच्छी तरह काम कर रहा है और सीमा पर दोनों ही देशों के सैनिकों के बीच संवाद का आदान-प्रदान हो रहा है। 

सेना प्रमुख ने कहा हमने बॉर्डर पर्सोनेल मीटिंग शुरू कर दी है और हम नियमित तौर पर मीटिंग कर रहे हैं और ग्राउंड लेवल पर कमांडरों के बीच संवाद हो रहा है। सेना प्रमुख ने कहा कि दोनों देशों के बीच संबंध अब 'डोकलाम' से पहले जैसे हो चुके हैं।