भारत ने ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का किया सफल परीक्षण, दुश्मनों के छुड़ाएगी छक्के

नई दिल्ली ( 21 मई ): भारत-रूस के संयुक्त परियोजना के तहत विकसित सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का सोमवार को 15 किलोमीटर दूर समुद्र में स्थित चांदीपुर के एकीकृत परीक्षण रेंज (आईटीआर) से सफलतापूर्वक प्रक्षेपण किया गया। मिसाइल का प्रक्षेपण आईटीआर के लांच परिसर 3 से 11.40 बजे किया गया। इसकी मारक क्षमता 290 किलोमीटर है तथा यह 200 किलोग्राम भार तक वजन ले जा सकता है। इस सफल परीक्षण के लिए देश की रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने डीआरडीओ को बधाई दी है। ब्रह्मोस पहली भारतीय मिसाइल है जिसका आयुसीमा 10 से 15 साल तक बढ़ाई गई है।नौ मीटर लंबी मिसाइल को जहाज या सब मैरीन से ले जाया जा सकता है। जहाज के जरिये यह मिसाइल 14 किलोमीटर की ऊंचाई से आवाज की गति पर दो बार तक छोड़ा जा सकता है। बता दें कि इससे पहले राजस्‍थान के पोखरण में इसी साल 22 मार्च को सुबह सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल 'ब्रह्मोस' का सफल परीक्षण किया गया था। यह पहली बार है जब किसी मिसाइल का परीक्षण एक भारतीय-निर्मित साधक के साथ किया गया।