2036 तक भारत इस मामले में चीन को भी छोड़ देगा पीछे, 2025 में बन जाएगा तीसरा बड़ा देश

नई दिल्ली (24 अक्टूबर): भारत में विमानन उद्योग तेजी से फैल रहा है। एक रिपोर्ट के मुताबिक अगर सबकुछ ठीक रहा है तो 2025 तक भारत विमान यात्रियों की तुलना ब्रिटेन के पीछे छोड़ते हुए तीसरा सबसे बड़ा विमानन बाजार बन जाएगा। दरअसल भारतीय विमानन उद्योग पिछले दो सालों के दौरान 20 फीसदी की दर से से बढ़ रहा है। अंतरराष्ट्रीय हवाई परिवहन संघ की रिपोर्ट के मुताबिक अमरीका, चीन और ब्रिटेन के बाद चौथे नंबर पर मौजूद भारत साल 2025 तक ब्रिटेन को पीछे छोड़ देगा।

साथ ही वर्ष 2030 तक इंडोनेशिया भी ब्रिटेन का पीछे छोड़ देगा। रिपोर्ट में अगले 20 साल में हवाई यात्रियों की संख्या में वृद्धि के बारे में पूर्वानुमान जारी किया गया है। इसमें बताया गया है कि वर्ष 2036 तक भारत में हवाई यात्रा करने वालों की सालाना संख्या बढ़कर 47.8 करोड़ पर पहुंच जाएगी। वर्ष 2016 में यह 14.1 करोड़ रही थी। इस दौरान चीन भी अमरीका को पीछे छोड़ देगा। चीन में हवाई यात्रियों की संख्या 20 साल में 92.1 करोड़ से बढ़कर डेढ़ अरब और अमरीका में 40.1 करोड़ से बढ़कर एक अरब 10 करोड़ पर पहुंच जाएगी। आईटा ने बताया कि इन 20 साल में दुनिया भर में हवाई यात्रियों की सालाना संख्या चार अरब से बढ़कर सात अरब 80 लाख हो जाएगी।

यह रिपोर्ट विमानन क्षेत्र में 3.6 प्रतिशत की मौजूदा वृद्धि दर को ध्यान में रखकर तैयार की गई है। आईटा के महानिदेशक एवं संख्या कार्यकारी अधिकारी एलेग्जेंडर डी जुनियेक ने कहा सभी संकेतक वैश्विक स्तर पर मांग में वृद्धि की ओर इशारा कर रहे हैं। दुनिया को 20 साल में दुगने यात्रियों के लिए तैयार रहना चाहिए। यह नवाचार एवं समृद्धि की दृष्टि से खुशखबरी है। साथ ही यह सरकारों और उद्योग के लिए चुनौती भी है कि वह इस मांग को पूरी करने की क्षमता विकसित करें। रिपोर्ट में कहा गया है कि अगले 20 साल विमानन क्षेत्र की वृद्धि में एशिया-प्रशांत क्षेत्र की अग्रणी भूमिका होगी। आधे से ज्यादा नए यात्री इसी क्षेत्र से होंगे।