आसियान से चीन को ऐसे घेरेगा भारत

नई दिल्ली(10 दिसंबर): चीन से वन बेल्ट वन रोड प्रॉजेक्ट पर जारी तनाव के बीच भारत आसियान देशों के साथ कनेक्टिविटी मजबूत करने की योजना पर काम कर रहा है। इसी के तहत अगले सप्ताह भारत आसियान-इंडिया कनेक्टिविटी समिट का आयोजन करने जा रहा है। 

- जापान की मदद से भारत इस योजना पर काम कर रहा है, जो उसकी ऐक्ट ईस्ट पॉलिसी का सबसे महत्वपूर्ण सहयोगी है।

-  11 और 12 दिसंबर को होने वाली इस समिट में सभी 10 आसियान देश शामिल होने वाले हैं। वियतनाम और कंबोडिया की ओर से मंत्री स्तरीय प्रतिनिधिमंडल इस समिट में मौजूद होगा। 

- जापान अकेला ऐसा देश है, जो आसियान में न होने के बाद भी इस समिट में मौजूद होगा। भारत और दक्षिण पूर्व एशियाई देशों के बीच आर्थिक और औद्योगिक संबंधों को मजबूत करने के मकसद से इस समिट का आयोजन किया जा रहा है। 

- भारत के साथ मिलकर 5 दिसंबर को ऐक्ट ईस्ट फोरम का उद्घाटन करने वाले जापान की ओर से जापान इंटरनैशनल को-ऑपरेशन एजेंसी और जापान एक्सटर्नल ट्रेड ऑर्गनाइजेशन प्रतिनिधित्व करेंगे। 

- भारत में जापानी राजदूत केंजी हिरामात्सु के मुताबिक ऐक्ट ईस्ट फोरम का उद्देश्य पूर्वोत्तर भारत में जापान के साथ मिलकर विकास कार्यों को गति देना है। हिरामात्सु के मुताबिक जापान की फ्री ऐंड ओपन इंडो-पैसिफिक स्ट्रैटजी भारत की ऐक्ट ईस्ट पॉलिसी से मिलकर काम कर रही है।