मोदी सरकार ने सेना को दी ये पावर, डरे पाक और चीन

नई दिल्ली (14 जुलाई): मोदी सरकार देश की सुरक्षा को लेकर एक से बढ़कर एक फैसले लेने में लगी हुई है। इसी कड़ी में सरकार ने सेना को 40 हजार करोड़ रुपये के हथियार बिना किसी की अनुमति के खरीदने की इजाजत दे दी है।


माना जा रहा है कि केंद्र सरकार 40 दिनों की लड़ाई की तैयारी कर रही है। सेना को यह पावर दी गई है कि अब वो बिना किसी रक्षा मंत्री और कैबिनेट मंजूरी के युद्ध के लिए 40 हजार करोड़ तक के हथियार और गोला बारूद खरीद सकती है। पहले यह रकम मात्र 12 हजार करोड़ रुपये थे, जिसे सरकार ने 3 गुना से ज्यादा बढ़ा दिया है।


उरी हमले के बाद सरकार ने सेना अध्यक्ष की इमरजेंसी पावर को 12 हजार करोड़ कर दिया था। सेना ने मार्च तक 12 हजार करोड़ खर्च करके 19 रक्षा सौदे करके अहम बारूद खरीदे, जिसमें से 11 सौदे गोला बारूद के लिए किए गए थे।


युद्ध के नजरिए से देखा जाए तो सेना के पास लगभग 46 तरह के अहम हथियार हैं, जिसमें 10 हथियारों के कलपुर्जे हैं। सेना के पास 20 तरह के गोला-बारूद और माइंस हैं, जिसमें आर्टलरी और टैंक से जुड़ा गौला बारूद शामिल है। गौरतलब है कि सेना 40 दिनों की लड़ाई के लिए हथियार तैयार रखती है।