अपने एम्पलाइज का शोषण रोकने के लिए भारत का सऊदी अरब के साथ समझौता

नई दिल्ली (16 जून): सऊदी अरब के साथ भारत सरकार ने श्रम सहयोग और कामगार नियुक्ति समझौता किया है। इस समझौते के तहत भारत से सऊदी अरब में जॉब वीजा पर जाने वाले लोगों को ढेर सारी सुविधायें मिलनी शुरु हो जायेंगी और वो जालसाजी-धोखाधड़ी से भी मुक्त हो जायेंगे। इस समझौते के बाद स्किल्ड, नॉन स्किल्ड और सेमी स्किल्ड सभी वर्ग के युवाओँ को लाभ होगा। दरअसल, सऊदी अरब जाकर पैसा कमाने के लालच में भारत से जाने वाले लोगों के साथ यहां के एजेंट और सऊदी अरब की कुछ कंपनियां जालसाजी कर रही थीं।

नौकरी वीजा दिलाने वाले एजेंट भारी कमीशन लेकर लोगों को सऊदी अरब भेज देते थे, लेकिन वहां पहुंच कर पता चलता था कि जिस नौकरी का वायदा किया गया था उसकी जगह उनसे कुछ और या बेहद असम्मानजनक काम करने के लिए बाध्य किया जाता था। इसके अलावा कुछ कंपनियां अपने प्रोजेक्ट बीच में ही बंद करके गायब हो जाती है, और भारतीय मजदूर के पासपोर्ट वीजा भी उन्हें वापस नहीं दिये जाते थे। इसके विपरीत सऊदी की कंपनियों को यह शिकायत रहती थी कि भारत से आने वाले अभ्यर्थियों अनट्रेंड होते हैं। इन सभी समस्याओँ को दूर करने के लिए भारत ने सऊदी अरब के साथ समझौता किया।