अगले 10 साल में भारत होगा दुनिया की तीसरी बड़ी अर्थव्‍यवस्‍था

नई दिल्ली (17 सितंबर):  अगले 10 साल में भारत विश्व की तीसरी बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा। ब्रिटेन की ब्रोकरेज फर्म HSBC की माने तो भारत जापान और जर्मनी को पीछे छोड़ते हुए 2028 तक दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्‍यवस्‍था बन सकता है। HSBC का कहना है कि इसके लिए भारत को लगातार रिफार्म्‍स पर काम करते रहना होगा और सोशल सेक्‍टर में ज्‍यादा ध्‍यान देना होगा। HSBC की रिपोर्ट के अनुसार भारत को ईज ऑफ डूइंग बिजनेस और कॉट्रेक्‍ट इफोर्समेंट पर ज्‍यादा ध्‍यान देने की जरूरत है। इसी के साथ भारत को हेल्‍थ और एजूकेशन सेक्‍टर में निवेश बढ़ाना होगा जो भी जरूरत के हिसाब से नहीं है।

रिपोर्ट के अनुसार भारत अगले दस साल में जापान और जर्मनी से नोमिनल यूएसडी के हिसाब आगे निकल जाएगा। रिपोर्ट में भारत की जनसंख्‍या में युवाओं की संख्‍या ज्‍यादा होना और मैक्रो स्‍टेबिल्‍टी का महत्‍वपूर्ण बताया है। रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया है कि भारत 2028 तक भारत 7 ट्रिलियन (7 लाख करोड़ डालर) की अर्थव्‍यवस्‍था होगा। जबकि उस वक्‍त जर्मनी 6 ट्रिलियन डालर और जापान 5 ट्रिलियन डालर की अर्थव्‍यवथा होगा। इस वक्‍त भारत 2.3 ट्रिलियन डालर की अर्थव्‍यवस्‍था है। इस प्रकार यह दुनिया की 5वीं बड़ी अर्थव्‍यवस्‍था है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि जीएसटी के चलते भारत की अर्थव्‍यवस्‍था इस साल 7.1 फीसदी की दर से बढ़ेगी, जो बाद में बढ़ सकती है। इसमें कहा गया है भारत तेजी से सुधार के रास्‍त पर है, लेकिन इससे हटना उसके लिए नुकसान दायक हो सकता है। रिपोर्ट के अनुसार जॉब लैस ग्रोथ की चिंता के बीच ई-कामर्स कंपनियां 1.2 करोड़ जॉब देंगी, जो कुछ मांग 2.4 करोड़ के आधे के बराबर हैं। इसके अलावा सबसे ज्‍यादा जॉब हेल्‍थ और ऐजूकेशन सेक्‍टर में आएंगे।

रिपोर्ट के अनुसार भारत सर्विस प्रधान अर्थव्‍यवस्‍था बना रहेगा, लेकिन अब भारत को अपना फोकस मैन्‍युफैक्‍चरिंग सेक्‍टर पर लगाना होगा। इसके अलावा भारत को कृषि सेक्‍टर में भी ध्‍यान देना होगा। रिपोर्ट में कहा गया है भारत की स्थिति चीन से अलग है। चीन एक एक्‍सपोर्ट आधारित अर्थव्‍यवस्‍था है। इसके अनुसार भारत में 55 करोड़ उपभोक्‍ता का बाजार है, जो काफी महतवपूर्ण कारण है।