2018 में चांद पर दो मिशन भेजेगा भारत

नई दिल्ली(30 जुलाई): भारत अगले साल दो मून मिशन लॉन्च करेगा। पहला मिशन अंतरिक्ष एजेंसी इसरो के चंद्रयान-2 (2018) का अडवांस वर्जन होगा, जिसका उद्देश्य चांद की सतह के बारे में अधिक जानकारी इकठ्ठा करना होगा। दूसरा मिशन एयरोस्पेस स्टार्टअप टीम इंडस का है जो चांद की सतह पर 500 मीटर चलने के अलावा तिरंगा फहराएगा। टीम इंडस का यह मिशन ग्लोबल लूनर कॉम्पिटिशन का हिस्सा है। 

- टीम इंडस में अधिकतर युवा इंजिनियर हैं जिनका नेतृत्व आईआईटी दिल्ली के पढ़े हुए राहुल नारायण कर रहे हैं। यह गूगल के लूनर XPRIZE ग्लोबल कॉम्पिटिशन के तहत किया जा रहा है जिसका प्राइज मनी 3 मिलियन डॉलर (करीब 192 करोड़ रुपये) है। इस कॉम्पिटिशन में चुनी गई टीमों को चांद की सतह पर रोवर को 500 मीटर चलाना है और चांद से पृथ्वी तक एचडी तस्वीरें भेजनी हैं। 

-इस कॉम्पिटिशन को पूरा करने के लिए एयरोस्पेस स्टार्टअप टीम इंडस इन्फोसिस के को-फाउंडर और UIDAI के पूर्व चेयरमैन नंदन नीलकेणी समेत इसरो के पूर्व अध्यक्ष के कस्तूरीरंगन जैसे लोगों से निवेश जुटाया है। 

- टीम इंडस के अलावा अमेरिका की टीम मून एक्सप्रेस, इजरायल की टीम स्पेसआईएल और एक अंतरराष्ट्रीय टीम सिनर्जी मून ने भी लॉन्च से जुड़े समझौते किए हैं। टीम इंडस पीएसएलवी की सर्विस का इस्तेमाल करते हुए 600 किलो का बेबी स्पेसक्राफ्ट चांद की ऑरबिट में छोड़ेगी। इसरो अपने मिशन के लिए भारी जीएसएलवी एमके 2 का इस्तेमाल करेगा।