मेलबर्न में भारत का कंगारुओं पर शिकंजा, क्या टीम इंडिया दोहरा पाएगी 37 साल पुराना इतिहास ?


न्यूज 24 ब्यूरो, मुंबई (28 दिसंबर): भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच मेलबर्न में खेले जा रहे तीसरा टेस्ट रोमांचक स्थिति में पहुंच गया है।  मेलबर्न टेस्ट की पहली पारी में 292 रन की बड़ी बढ़त लेने के बाद टीम इंडिया ने दूसरी पारी लड़खड़ा गई है। टीम के टॉप ऑर्डर ने एक के बाद एक करके सरेंडर कर दिया। टीम इंडिया ने 50 रन के अंदर टॉप के 5 बल्लेबाजों को गंवा दिया और आउट होने से पहले ये सभी स्कोर बोर्ड पर सिर्फ 19 रन ही जोड़ सके। सबसे ज्यादा 13 रन का योगदान हनुमा विहारी का रहा। विराट और पुजारा के लिए खाता खोलना दुभर हो गया तो वहीं रहाणे ने 1 रन बनाए, जबकि रोहित शर्मा 5 रन बनाकर पवेलियन लौटे। हालांकि, टॉप ऑर्डर के सरेंडर के बावजूद भी मेलबर्न टेस्ट पर टीम इंडिया की पकड़ मजबूत है।



भारतीय टीम की अभी तक की बढ़त 346 रन की हो चुकी है, जो कि MCG की पिच को देखते हुए जीत के लिए एक अच्छा स्कोर है। ओपनर मयंक अग्रवाल और विस्फोटक रिषभ पंत क्रीज पर जमे हैं। चौथे दिन का पहला सेशन भी अगर टीम इंडिया पूरा खेल लेती है तो उसकी बढ़त न सिर्फ 400 रन के पार पहुंच जाएगी बल्कि टीम इंडिया की जीत भी सुनिश्चित हो जाएगी। हालांकि मेलबर्न में कल और पसरों बारिश की भी आशंका है। सीरीज फिलहाल 1-1 की बराबरी पर है। भारत ने एडिलेड टेस्ट जीता था, जबकि पर्थ टेस्ट में हार का सामना करना पड़ा था। अब देखना दिलचस्प होगा कि क्या मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर टीम इंडिया 37 साल पुराना करिश्मा दोबारा दिखा पाती है या नहीं। इस मैदान पर भारत ने आखिरी बार जीत 1981 में हासिल की थी। भारत का इस मैदान पर 2014 में खेला गया पिछला मैच ड्रॉ रहा था और इसमें टीम इंडिया ने बड़ी मुश्किल से हार टाली थी, ये वही टेस्ट है जिसके बाद महेंद्र सिंह धौनी ने टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कह दिया था।



मेलबर्न पर भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच 1948 से अब तक कुल 12 मैच खेले गए हैं, जिनमें से ऑस्ट्रेलिया आठ जीता है, भारत ने 2 मैच जीते हैं जबकि 2 मैच ड्रॉ रहे हैं। भारत ने अपनी आजादी के बाद जनवरी 1948 के बाद इस मैदान पर जो मैच खेला उसे ऑस्ट्रेलिया ने 233 रन से जीता। इसके बाद फरवरी 1948 में खेला गया मैच भी ऑस्ट्रेलिया ने पारी और 177 रन से जीता। इसके 19 साल बाद 1967 में मेलबर्न में मैच खेला और उसे पारी और चार रन से गंवाया। भारत को मेलबर्न में पहली जीत दिसंबर 1977 में हासिल हुई। लेफ्ट आर्म स्पिनर बिशन सिंह बेदी की अगुवाई में भारत ने इस मैच को 222 रन से जीता। इसके बाद फरवरी 1981 में सुनील गावस्कर की अगुवाई में भारत ने 59 रन से जीत हासिल की। ऑस्ट्रेलिया के सामने मात्र 143 रन का लक्ष्य था और कपिल देव की घातक गेंदबाजी के सामने आस्ट्रेलियाई टीम 83 रन पर लुढ़क गई। कपिल ने बुखार होने के बावजूद शानदार गेंदबाजी की और 16.4 ओवर में 28 रन देकर पांच विकेट झटके थे।